This beautiful ghazal 'Donon Jahan Teri Mohabbat Mein Haar ke' has written by Faiz Ahmad Faiz.


 SOURCE 
Author – Faiz Ahmad Faiz
Book – Nuskha Hai Wafa

 Difficult Words 
शब-ए-गम = The night of sorrow ( दुःख की रात)
वीराँ = Empty(खाली)
मैयकदा = Bar(मधुशाला)
खुम-ओ-साग़र = Glass of wine( शराब का गिलास)
दिल-फरेब  = Deceptive( कपटी)
फुर्सत-ए-गुनाह = Freedom of sin( पाप की स्वतंत्रता)
हौसले = Confidence(आत्मविश्वास)
परवरदिगार = Almighty, God(सर्वशक्तिमान)
वलवले = Enthusiasm( उत्साह)
दिल-ए-नाकर्दाकार = insensitive heart( असंवेदनशील हृदय)


Donon Jahan Teri Mohabbat Mein Haar Ke 


Donon jahan teri mohabbat mein haar ke 
Wo ja raha hai koi shab-e-gham guzaar ke 

Veeran hai mai'kada khum-o-saagar udaas hain 
Tum kya gaye ki ruth gaye din bahaar ke 

Ek fursat-e-gunah mili wo bhi chaar din 
Dekhe hain hum ne hausle parwardigar ke 

Duniya ne teri yaad se begaana kar diya
Tujh se bhi dil-fareb hain gham rozgaar ke 

Bhoole se muskura to diye the wo aaj 'faiz' 
Mat puchh walwale dil-e-na-karda-kar ke 


दोनों जहान तेरी मोहब्बत में हार के 
(In Hindi)

दोनों जहान तेरी मोहब्बत में हार के 
वो जा रहा है कोई शब-ए-ग़म गुज़ार के 

वीराँ है मैय'कदा ख़ुम-ओ-साग़र उदास हैं 
तुम क्या गए कि रूठ गए दिन बहार के 

इक फ़ुर्सत-ए-गुनाह मिली वो भी चार दिन 
देखे हैं हम ने हौसले पर्वरदिगार के 

दुनिया ने तेरी याद से बेगाना कर दिया 
तुझ से भी दिल-फ़रेब हैं ग़म रोज़गार के 

भूले से मुस्कुरा तो दिए थे वो आज 'फ़ैज़' 
मत पूछ वलवले दिल-ए-ना-कर्दा-कार के 

                            – Faiz Ahmad Faiz