This beautiful poetry 'Bhool Jaana' has written and Performed  by Manoj Muntashir on the stage of The Habitat Studios.

Bhool Jaana

Sawaal ek chhota sa tha 
Jiske peechhe ye poori zindagi barbaad kar li 
Bhulaoon kis tarah wo donon aankhein kitaabon ki tarah jo yaad kar li.

Bhool jaana, 
Bhool jaana ki ek ladka tha shayaraana sa
Kuch tabeeyat se kaafiraana sa 
Hans ke sab se milta-julta tha 
Par uske dil ka darwaaja sirf tumhaari dastkon pe khulta tha.

Bhool jaana,  
Wo ajeeb sa ladka jo laal peeli kapdon mein gujarta 
Shakal soorat to bas yoon hi si thi par tumhaare liye roz banta sanwarta

Bhool jaana,
Wo kam padha likha tha ladka, 
Jiski kitaabon se kabhi dosti nahin hui
Par tumhaari aankhein padhne mein usse kabhi galati nahin hui 

Bhool jaana, 
Wo paagal sa ladka jo khud bhoolne ki aadat se pareshaan tha, barbaad tha 
Par tumhaare har kurte ka rang use jabaani yaad tha

Bhool jaana,  
Ki wo gaanv ki mitti ki jaaya 
Jab tumhaare shahar aaya 
To baat-baat par uska dil dhadak uthta 
Aur wo khet khalihaan mein pali ungaliyaan tumhen chhu leti 
To tumhaara badan kachche aam ke bageechon jaisa mahak uthata 

Bhool jaana, 
Wo January ke sardiyaan, wo chaai ke pyaale gungune aur wo kahaaniyaan jo tum aise sunati thi jaise koi bachcha loriyaan sune

Bhool jaana, 
Kyonki main bhool chuka hoon 
Main bhool chuka hoon wo shaam jab main sirf tumse nahin apne aap se bhi bichhada tha 
Aaj ke baad mera intzaar mat karna
Ye sunte hi meri ghadi se waqt gir pada tha 
Kuch shaam ke baad kya hua, main kahaan gaya, kaise jiya, kya kiya tumane poochha nahin maine bataaya nahin 
Par yah jaan lo wo ghadi se gira hua waqt mujhe bulaata raha aur maine uthaaya nahin 

Khair, kal aur aaj ke beech duniya badal gayi
Ab ishq mein tadapne ki fursat kahaan?
Aansoo bahaane ki mohalat kahaan? 
Par aaj bhi chaai ki har pyaali Tumhaara intzaar karti hai 

Aey meri Dost, mere dil ki tadap, meri adhoori aarzoo tere hisse ki shaam aaj bhi khaali guzarti hai.



भुल जाना
(In Hindi)

सवाल एक छोटा सा था 
जिसके पीछे ये पूरी जिंदगी बर्बाद कर ली 
भुलाऊं किस तरह वो दोनों आंखें 
किताबों की तरह जो याद कर ली 

भूल जाना, 
भूल जाना कि एक लड़का था शायराना सा
कुछ तबीयत से काफ़िराना सा 
हंस के सब से मिलता-जुलता था 
पर उसके दिल का दरवाजा सिर्फ तुम्हारी दस्तकों पे खुलता था। 

भूल जाना, 
वो अजीब सा लड़का जो लाल पीली कपड़ों में गुजरता 
शक्ल सूरत तो बस यूं ही सी थी पर तुम्हारे लिए रोज बनता संवरता 

भूल जाना, 
वो कम पढ़ा लिखा था लड़का, जिसकी किताबों से कभी दोस्ती नहीं हुई 
पर तुम्हारी आंखें पढ़ने में उससे कभी गलती नहीं हुई 

भूल जाना, 
वो पागल सा लड़का जो खुद भूलने की आदत से परेशान था, बर्बाद था 
पर तुम्हारे हर कुर्ते का रंग उसे जबानी याद था
भूल जाना, 
कि वो गांव की मिट्टी की जाया 
जब तुम्हारे शहर आया 
तो बात-बात पर उसका दिल धड़क उठता 
और वो खेत खलिहान में पली उंगलियां तुम्हें छू लेती 
तो तुम्हारा बदन कच्चे आम के बगीचों जैसा महक उठता 

भूल जाना, 
वो जनवरी के सर्दियां, वो चाय के प्याले गुनगुने और वो कहानियां जो तुम ऐसे सुनती थी जैसे कोई बच्चा लोरियां सुने 

भूल जाना, 
क्योंकि मैं भूल चुका हूं 
मैं भूल चुका हूं वो शाम जब मैं सिर्फ तुमसे नहीं अपने आप से भी बिछड़ा था 
आज के बाद मेरा इंतजार मत करना ये सुनते ही मेरी घड़ी से वक्त गिर पड़ा था 
कुछ शाम के बाद क्या हुआ, मैं कहां गया, कैसे जिया, क्या किया तुमने पूछा नहीं मैंने बताया नहीं 
पर यह जान लो वो घड़ी से गिरा हुआ वक्त मुझे बुलाता रहा और मैंने उठाया नहीं 

खैर, कल और आज के बीच दुनिया बदल गई
अब इश्क़ में तड़पने की फुर्सत कहां 
आंसू बहाने की मोहलत कहां 
पर आज भी चाय की हर प्याली तुम्हारा इंतजार करती है 

ऐ मेरी दोस्त, मेरे दिल की तड़प, मेरी अधूरी आरजू तेरे हिस्से की शाम आज भी खाली गुजरती है ।

                               – Manoj Muntashir