This beautiful hindi poem 'Apsara Tu Wahi Hu-Ba-Hu Hai' has written and Performed by Kumar Vishwas.

Apsara Tu Wahi Hu-Ba-Hu Hai 



Ek main hoon yahan ek tu hai 
Sirf saanson ki hi guftagu hai

Chaand ke saaz par roshni 
Geet gaate hue aa rahi hai 
Teri zulfon se chhankar wo dekho
Chandani noor barsa rahi hai 

Waqt yun hi thahar jaaye humdum 
Dil ko itni si ek aarzoo hai 
Ek main hoon yahan ek tu hai 

Ek main hoon yahan ek tu hai 
Sirf saanson ki hi guftagu hai

Door dharti ke kaande pe dekho
Aasmaa jhoom kar jhuk gaya hai
Narm baahon ke ghere ke baahar 
Shor duniya ka chup ruk gaya hai

Mere khwaabon me jo tairati thi
Apsara tu wahi hu-ba-hu hai 
Ek main hoon yahan ek tu hai 

Ek main hoon yahan ek tu hai 
Sirf saanson ki hi guftagu hai



अप्सरा तू वही हु-बा-हु है 
(In Hindi)

एक मैं हूँ यहाँ एक तू है
सिर्फ साँसों की ही गुफ्तगू है

चाँद के साज़ पर रौशनी 
गीत गाते हुए आ रही है 
तेरी ज़ुल्फ़ों से छनकर वो देखो
चांदनी नूर बरसा रही है 

वक़्त यूँ ही ठहर जाए हमदम 
दिल को इतनी सी एक आरज़ू है 
एक मैं हूँ यहाँ एक तू है 

एक मैं हूँ यहाँ एक तू है
सिर्फ साँसों की ही गुफ्तगू है

दूर धरती के कांधे पे देखा
आसमां झूम कर झुक गया है
नर्म बाहों के घेरे के बाहर 
शोर दुनिया का चुप रुक गया है

मेरे ख़्वाबों में जो तैरती थी
अप्सरा तू वही हु-बा-हु है 
एक मैं हूँ यहाँ एक तू है

एक मैं हूँ यहाँ एक तू है
सिर्फ साँसों की ही गुफ्तगू है।

                                   – Kumar Vishwas