This beautiful ghazal 'Ae Husn-e-Beparwah Tujhe Sabnam Kahoon Shola Kahoon' has written by Bashir Badr.


 Difficult Words 
हुस्न-ए-बेपरवाह = सुन्दरता की चिंता किए बिना।
शोख़ी = चुलबुलापन, नटखटपन, इठलाहट, चंचलता।
गेसू = स्त्रियों के बालों की लट, ज़ुल्फ़।

Ae Husn-e-Beparwah Tujhe Sabnam Kahoon Shola Kahoon


Ae husn-e-beparwah tujhe sabnam kahoon shola kahoon
Phoolon mein bhi shokhi to hai kisko magar tujh sa kahoon

Gesoo ude mahki fiza jadoo kare aankhe teri
Soya hua manjar kahoon ya jaagta sapna kahoon

Chanda ki tu hai chaandani laharo ki tu hai ragini
Jaan-e-tamnna main tujhe kya kya kahoon kya na kahoon

                                       – Bashir Badr


ऐ हुस्न-ए-बेपरवाह तुझे शबनम कहूँ शोला कहूँ
(In Hindi)

ऐ हुस्न-ए-बेपरवाह तुझे शबनम कहूँ शोला कहूँ
फूलों में भी शोख़ी तो है किसको मगर तुझ सा कहूँ

गेसू उड़े महकी फ़िज़ा जादू करें आँखे तेरी
सोया हुआ मंज़र कहूँ या जागता सपना कहूँ

चंदा की तू है चांदनी लहरों की तू है रागिनी
जान-ए-तमन्ना मैं तुझे क्या क्या कहूँ क्या न कहूँ

                                           – बशीर बद्र