This beautiful ghazal 'Ab Kise Chahe Kise Dhoondha Kare' has written by Bashir Badr.


 Difficult Words 
दीन = धर्म, मज़हब।
दरीचे = छोटा दरवाज़ा, खिड़की, रोशनदान।


Ab Kise Chahe Kise Dhoondha Kare


Ab kise chaahe kise dhoondha kare
Wo bhi aakhir mil gaya ab kya kare

Halki halki baarishein hoti rahe
Hum bhi phoolon ki tarah bheega kare

Aankhe moonde us gulaabi dhoop mein
Der tak baithe use socha kare

Dil muhabbat deen duniya shayari
Har dareeche se tujhe dekha kare

Ghar naya kapde naye bartan naye
In puraane kaagazon ka kya kare

                                       – Bashir Badr 


अब किसे चाहें किसे ढूँढा करें
(In Hindi)

अब किसे चाहें किसे ढूँढा करें
वो भी आख़िर मिल गया अब क्या करें

हल्की हल्की बारिशें होती रहें
हम भी फूलों की तरह भीगा करें

आँख मूँदे उस गुलाबी धूप में
देर तक बैठे उसे सोचा करें

दिल, मुहब्बत, दीन, दुनिया, शायरी
हर दरीचे से तुझे देखा करें

घर नया कपड़े नये बर्तन नये
इन पुराने काग़ज़ों का क्या करें

                                          – बशीर बद्र