This beautiful ghazal 'Ab Aisa Ghar Ke Dareechon Ko Band Kiya Rakhna' has written by Waseem Barelvi.


 Difficult Words 
दरीचों = window(खिड़कियां)
कुर्बत = nearness, vicinity( निकटता, आसपास)
मिल्कियत = Landlord, Ownership(ज़मींदारी, जाग़ीर, स्वामित्व)
सिरहाने = To the head( सिर की ओर।)

 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – मेरा क्या
प्रकाशन –  परम्परा प्रकाशन, नई दिल्ली
संस्करण – 2007

Ab Aisa Ghar Ke Dareechon Ko Band Kiya Rakhna


Ab aisa ghar ke dareechon ko band kiya rakhna
Hawa ke aane ka koi to raasta rakhna

Tallukaat kabhi ek se nahi rahte
Use gawa ke bhi jeene ka hausla rakhna

Jab apne log hi aayenge lutane ke liye
To dosti ka takaaza hai ghar khula rakhna

Yah kurbatein hii bade imtihaan leti hai
Kisi se vasta rakhna to door ka rakhna

Tamaam jhagde yahan milkiyat ke hote hai
Kahi bhi rahna magar ghar kiraay ka rakhna

Bado bado ko yahan haath taapna honge
Jale makaano ko kuchh din yoon hi jala rakhna

Waseem dilli ki sadkon pe raat bhari hai
Sirhaane ‘Meer’ ka deewan hi khula rakhna

                           – Waseem Barelvi


अब ऐसा घर के दरीचों को बन्द क्या रखना
(In Hindi)

अब ऐसा घर के दरीचों को बन्द क्या रखना
हवा के आने का कोई तो रास्ता रखना।

तअल्लुक़ात कभी एक से नहीं रहते
उसे गंवा के भी जीने का हौसला रखना

जब अपने लोग ही आएंगे लूटने के लिए
तो दोस्ती का तक़ाज़ा है घर खुला रखना

यह कुरबतें ही बड़े इम्तिहान लेती हैं
किसी से वास्ता रखना तो दूर का रखना

तमाम झगड़े यहां मिल्कियत के होते हैं
कहीं भी रहना मगर घर किराये का रखना

बड़े बड़ों को यहां हाथ तापना होंगे
जले-मकानों को कुछ दिन यूं ही जला रखना

‘वसीम’ दिल्ली की सड़कों पे रात भारी है
सिरहाने मीर का दीवान ही खुला रखना

                                        – वसीम बरेलवी