This beautiful ghazal 'Aawaazo Ka Labon Se Bahut Faasila Na Tha' has written by Waseem Barelvi.



 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – मेरा क्या
प्रकाशन –  परम्परा प्रकाशन, नई दिल्ली
संस्करण – 2007


Aawaazo Ka Labon Se Bahut Faasila Na Tha 


Aawaazo ka labon se bahut faasila na tha 
Lekin ko khauf tha ki koi bolta na tha

Aansoo ko etabaar ke qaabil samajh liya 
Main khud hi chhota nikala, tera gham bada na tha 

Usne hi mujhko dekha zamaane ki aankh se 
Jisko meri nazar se koi dekhta na tha

Un ajnabeeyato ke sataaye hai in dinon 
Jaise kabhi kisi se koi vaasita na tha

Har mod par ummeed thi, har soch aarzoo 
Khud se faraar ka bhi koi raasta na tha 

Apna yah alamiyaan hai ki hum zahni taur par 
Us shahn me rahe, jo abhi tak basa na tha 

Kaisi giraavato par khadi thi, magar 'Waseem' 
Oonchi imaarton se koi poochhta na tha.


आवाज़ो का लबों से बहुत फा़सिला न था
(In Hindi)

आवाज़ो का लबों से बहुत फा़सिला न था 
लेकिन को ख़ौफ था की कोई बोलता न था 

आंसू को एतबार के क़ाबिल समझ लिया 
मैं ख़ुद ही छोटा निकला, तेरा ग़म बड़ा न था

उसने ही मुझको देखा ज़माने की आंख से जिसको मेरी नज़र से कोई देखता न था 

उन अजनबीयतो के सताये है इन दिनों
जैसे कभी किसी से कोई वासिता न था 

हर मोड़ पर उम्मीद थी, हर सोच आरज़ू 
ख़ुद से फरार का भी कोई रास्ता न था 

अपना यह अलमियां है कि हम ज़ह्नी तौर पर 
उस शह्न मे रहे, जो अभी तक बसा न था 

कैसी गिरावटो पर ख़ड़ी थी, मगर 'वसीम' 
ऊंची इमारतों से कोई पूछता न था

                             – Waseem Barelvi