This beautiful ghazal 'Wo Mujh ko Kya Batana Chahata Hai' has written by Waseem Barelvi.


Wo Mujh ko Kya Batana Chahata Hai

Wo mujh ko kya batana chahata hai
Jo duniya se chhupana chahata hai

Mujhe dekho ki main us ko hi chahoon
Jise saara zamaana chahta hai

Qalam karna kahan hai uss ka mansha
Wo mera sar jhukana chahta hai

Shikayat ka dhuaan aankhon se dil tak
Talluq toot jaana chahta hai

Taqaaza waqt ka kuch bhi ho
Ye dil wahi qissa purana chahta hai.

(In Hindi)
वो मुझ को क्या बताना चाहता है
जो दुनिया से छुपाना चाहता है

मुझे देखो कि मैं उस को ही चाहूँ
जिसे सारा ज़माना चाहता है

क़लम करना कहाँ है उस का मंशा
वो मेरा सर झुकाना चाहता है

शिकायत का धुआँ आँखों से दिल तक
तअ'ल्लुक़ टूट जाना चाहता है

तक़ाज़ा वक़्त का कुछ भी हो ये दिल
वही क़िस्सा पुराना चाहता है।

                                      – Waseem Barelvi