This beautiful Ghazal 'Wo Mere Ghar Nahi Aata Main Uske Ghar Nahi Jata' has written by Waseem Barelvi.


 Difficult Words 
तर्बियत = पालन-पोषण, परवरिश शिक्षा, तालीम।
महदूद = सीमित, थोड़े, हद के भीतर, चंद।

Wo Mere Ghar Nahi Aata Main Uske Ghar Nahi Jata 


Wo mere ghar nahin aata main uske ghar nahin jaata 
Magar in ehatiyaton se ta'lluk mar nahin jaata 

Bure achhe ho jaise bhi ho sab rishte yahin ke hain 
Kisi ko saath duniya se koi lekar nahin jaata 

Gharon ki tarbiyat kya aa gayi T.V ke haathon mein 
Koi bachha ab apne baap ke upar nahin jaata 

Khule the shahar mein sau dar magar ek had ke andar hi 
Kahan jaata agar main laut ke phir ghar nahin jaata 

Mohbbat ke ye aansu hain unhein aankhon mein rahne do 
Sharifon ke gharon ka masla baahar nahin jaata

'Waseem' us se kaho duniya bahut mahdood hai meri, 
kisi dar ka jo ho jaayein wo phir dar dar nahin jaata.


(In Hindi)
वो मेरे घर नहीं आता मैं उस के घर नहीं जाता 
मगर इन एहतियातों से तअ'ल्लुक़ मर नहीं जाता 

बुरे अच्छे हों जैसे भी हों सब रिश्ते यहीं के हैं 
किसी को साथ दुनिया से कोई लेकर नहीं जाता 

घरों की तर्बियत क्या आ गई टी-वी के हाथों में 
कोई बच्चा अब अपने बाप के ऊपर नहीं जाता 

खुले थे शहर में सौ दर मगर इक हद के अंदर ही 
कहाँ जाता अगर मैं लौट के फिर घर नहीं जाता 

मोहब्बत के ये आँसू हैं उन्हें आँखों में रहने दो 
शरीफ़ों के घरों का मसअला बाहर नहीं जाता

'वसीम' उस से कहो दुनिया बहुत महदूद है मेरी 
किसी दर का जो हो जाए वो फिर दर दर नहीं जाता।   

                                 – Waseem Barelvi