This beautiful ghazal 'Us Ne Meri Raah Na Dekhi' has written by Waseem Barelvi.


  Difficult Word  
फ़नकार = कलाकार।

Us Ne Meri Raah Na Dekhi 

Us ne meri raah na dekhi aur wo rishta tod liya 
Jis rishte ki khaatir mujh se duniya ne munh mod liya 

Badi badi khushiyon ko haan nazdeek se ja kar dekha to 
Main ne raah ke chalte-phirte dukh se naata jod liya 

Main kitne rangon mein dhalta kab tak khud se lad paata 
Jeevan ek safar tha jis ne roz naya ik mod liya

Aise shakhs ko meer banaaya jo bas khwaab dikhaata tha 
Basti ke logon ne apna-aap muqaddar phod liya.

Main to bhola-bhaala 'Waseem' aur wo fankaar siyaasat ka 
Us ke jab ghatne ki baari aayi mujh ko jod liya.

(In Hindi)
उस ने मेरी राह न देखी और वो रिश्ता तोड़ लिया 
जिस रिश्ते की ख़ातिर मुझ से दुनिया ने मुँह मोड़ लिया 

बड़ी बड़ी ख़ुशियों को हाँ नज़दीक से जा कर देखा तो 
मैं ने राह के चलते-फिरते दुख से नाता जोड़ लिया 

मैं कितने रंगों में ढलता कब तक ख़ुद से लड़ पाता 
जीवन एक सफ़र था जिस ने रोज़ नया इक मोड़ लिया 

ऐसे शख़्स को मीर बनाया जो बस ख़्वाब दिखाता था 
बस्ती के लोगों ने अपना-आप मुक़द्दर फोड़ लिया। 

मैं तो भोला-भाला 'वसीम' और वो फ़नकार सियासत का 
उस के जब घटने की बारी आई मुझ को जोड़ लिया। 

                                 – Waseem Barelvi