This beautiful ghazal 'Tu Samajhta Hai Ki Rishton Ki Duhayi Denge' has written by Waseem Barelvi.


 Difficult Word 
सफ़ = पंक्ति, कतार।


Tu Samajhta Hai Ki Rishton Ki Duhayi Denge

Tu samajhta hai ki rishton ki duhayi denge 
Hum to wo hain tere chehre se dikhayi denge 

Hum ko mahsoos kiya jaye hai khushboo ki tarah
Hum koi shor nahin hain jo sunayi denge 

Faisla likkha hua rakkha hai pahle se khilaf 
Aap kya saahab adaalat mein safayi denge.

Pichhli saf mein hi sahi hai to isi mahfil mein 
Aap dekhenge to hum kyun na dikhayi denge.


(In Hindi)
तू समझता है कि रिश्तों की दुहाई देंगे 
हम तो वो हैं तिरे चेहरे से दिखाई देंगे 

हम को महसूस किया जाए है ख़ुश्बू की तरह 
हम कोई शोर नहीं हैं जो सुनाई देंगे 

फ़ैसला लिक्खा हुआ रक्खा है पहले से ख़िलाफ़ 
आप क्या साहब अदालत में सफ़ाई देंगे 

पिछली सफ़ में ही सही है तो इसी महफ़िल में 
आप देखेंगे तो हम क्यूँ न दिखाई देंगे। 

                                 – Waseem Barelvi