This beautiful ghazal 'Sar jhukaoge to patthar devata ho jayega' has written by Bashir Badr.


Sar jhukaoge to patthar devata ho jayega


Sar jhukaoge to patthar devata ho jayega
Itna mat chaaho use, wo bewafa ho jayega

Hum bhi dariya hain, humein apna hunar maaloom hai
Jis taraf bhi chal padenge, raasta ho jayega

Kitni sachhaayi se mujh se zindagi ne kah diya
Tu nahin mera, to koi doosara ho jayega

Main khuda ka naam lekar pi raha hoon dosto
Zahar bhi ismein agar hoga, dawa ho jayega

Sab usi ke hain hawa, khushboo, zameeno-aasamaan
Main jahaan bhi jaunga, usko pata ho jayega.


(In Hindi)
सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा
इतना मत चाहो उसे, वो बेवफ़ा हो जाएगा

हम भी दरिया हैं, हमें अपना हुनर मालूम है
जिस तरफ भी चल पड़ेंगे, रास्ता हो जाएगा

कितनी सच्चाई से मुझ से ज़िन्दगी ने कह दिया
तू नहीं मेरा, तो कोई दूसरा हो जाएगा

मैं ख़ुदा का नाम लेकर पी रहा हूँ दोस्तो
ज़हर भी इसमें अगर होगा, दवा हो जाएगा

सब उसी के हैं हवा, ख़ुश्बू, ज़मीनो-आसमाँ
मैं जहाँ भी जाऊँगा, उसको पता हो जाएगा।

                                       – Bashir Badr