This beautiful ghazal 'Sabhi Ka Dhoop Se Bachne Ko' has written by Waseem Barelvi.

 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – मेरा क्या
प्रकाशन –  परम्परा प्रकाशन, नई दिल्ली
संस्करण – 2007


 Difficult Word 
मारका = लड़ाई, युद्ध, बहुत बड़ी घटना।

Sabhi Ka Dhoop Se Bachne Ko


Sabhi ka dhoop se bachne ko sar nahin hota 
Har aadmi ke mukaddar mein ghar nahin hota 

Kabhi lahu se bhi taarikh likhni padti hai 
Har ek maaraka baaton se sar nahin hota 

Main us ki aankh ka aansu na ban saka warna 
Mujhe bhi khaak mein milne ka dar nahin hota 

Mujhe talaash karoge to phir na paaoge 
Main ek sada hoon sadaaon ka ghar nahin hota 

Main us makaan mein rahta hoon aur jinda hoon 
'Waseem' jis mein hawa ka guzar nahin hota.


(In Hindi)
सभी का धूप से बचने को सर नहीं होता 
हर आदमी के मुक़द्दर में घर नहीं होता 

कभी लहू से भी तारीख़ लिखनी पड़ती है 
हर एक मा'रका बातों से सर नहीं होता 

मैं उस की आँख का आँसू न बन सका वर्ना 
मुझे भी ख़ाक में मिलने का डर नहीं होता 

मुझे तलाश करोगे तो फिर न पाओगे 
मैं इक सदा हूँ सदाओं का घर नहीं होता 

मैं उस मकान में रहता हूँ और ज़िंदा हूँ 
'वसीम' जिस में हवा का गुज़र नहीं होता। 

                                 – Waseem Barelvi