This beautiful ghazal 'Phool Sa Kuch Kalaam Aur Sahi' has written by Bashir Badr.

Phool Sa Kuch Kalaam Aur Sahi

Phool sa kuch kalaam aur sahi
Ek ghazal us ke naam aur sahi

Us ki julfein bahut ghaneri hain
Ek shab ka kyaam aur sahi

Zindagi ke udaas kisse mein
Ek ladki ka naam aur sahi

Kursiyon ko sunaayiye ghazalein
Katal ki ek shaam aur sahi

Kanpkanpaati hai raat sine mein
Zahar ka ek jaam aur sahi.


(In Hindi)
फूल सा कुछ कलाम और सही
एक ग़ज़ल उस के नाम और सही

उस की ज़ुल्फ़ें बहुत घनेरी हैं
एक शब का क़याम और सही

ज़िन्दगी के उदास क़िस्से में
एक लड़की का नाम और सही

कुर्सियों को सुनाइये ग़ज़लें
क़त्ल की एक शाम और सही

कँपकँपाती है रात सीने में
ज़हर का एक जाम और सही।

                                     – Bashir Badr