This beautiful ghazal 'Na Jaane Kyun Mujhe Us Se Hi Khauf Lagta Hai' has written by Waseem Barelvi.

 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – मेरा क्या
प्रकाशन –  परम्परा प्रकाशन, नई दिल्ली
संस्करण – 2007


 Difficult Words 
रफ़ाक़तों = साथ, दोस्ती, साहचर्य।
बार-ए-ज़ीस्त = जीवन का बोझ।

Na Jaane Kyun Mujhe Us Se Hi Khauf Lagta Hai  

Na jaane kyun mujhe us se hi khauf lagta hai 
Mere liye jo zamane ko chhod aaya hai 

Andheri shab ke hawalon mein us ko rakkha hai 
Jo saare shahar ki nindein uda ke soya hai 

Rafaqaton ke safar mein to be-yaqini thi 
Ye faasla hai jo rishta banaye rakhta hai

Wo khwaab the jinhein hum mil ke dekh sakte the 
Ye baar-e-zist hai tanha uthana padta hai 

Humein kitabon mein kya Dhundne chale ho 'Waseem' 
Jo hum ko padh nahin paye unhin ne likkha hai.


(In Hindi)
न जाने क्यूँ मुझे उस से ही ख़ौफ़ लगता है 
मिरे लिए जो ज़माने को छोड़ आया है 

अँधेरी शब के हवालों में उस को रक्खा है 
जो सारे शहर की नींदें उड़ा के सोया है 

रफ़ाक़तों के सफ़र में तो बे-यक़ीनी थी 
ये फ़ासला है जो रिश्ता बनाए रखता है 

वो ख़्वाब थे जिन्हें हम मिल के देख सकते थे 
ये बार-ए-ज़ीस्त है तन्हा उठाना पड़ता है 

हमें किताबों में क्या ढूँढ़ने चले हो 'वसीम' 
जो हम को पढ़ नहीं पाए उन्हीं ने लिक्खा है 

                                 – Waseem Barelvi