This beautiful Ghazal 'Mujhe Toh Katra Hi Hona Bahut Satata Hai' has written by Waseem Barelvi.


 Difficult Words 
माज़ी = अतीत।
तख़्ती = छोटा तख़्ता, काठ की छोटी पटिया।

Mujhe Toh Katra Hi Hona Bahut Satata Hai 


Mujhe to katra hi hona bahut sataata hai 
Isi liye to samundar pe raham aata hai 

Wo is tarah bhi miri ahamiyat ghatata hai 
Ki mujh se milne mein shartein bahut lagata hai 

Bichhadte waqt kisi aankh mein jo aata hai 
Tamaam uamr wo aansu bahut rulaata hai 

Kahaan pahunch gayi duniya use pata hi nahin 
Jo ab bhi maazi ke kisse sunaayein jaata hai 

Uthaaye jaayein jahaan haath aise jalse mein 
Wahi bura jo koi masala uthaata hai 

Na koi ohda na digri na naam ki takhti Main rah raha hoon yahan mera ghar bataata hai 

Samajh raha ho kahin khud ko meri kamajori 
To us se kah do mujhe bhulna bhi aata hai.


(In Hindi)
मुझे तो क़तरा ही होना बहुत सताता है 
इसी लिए तो समुंदर पे रहम आता है 

वो इस तरह भी मिरी अहमियत घटाता है 
कि मुझ से मिलने में शर्तें बहुत लगाता है 

बिछड़ते वक़्त किसी आँख में जो आता है 
तमाम उम्र वो आँसू बहुत रुलाता है 

कहाँ पहुँच गई दुनिया उसे पता ही नहीं 
जो अब भी माज़ी के क़िस्से सुनाए जाता है 

उठाए जाएँ जहाँ हाथ ऐसे जलसे में 
वही बुरा जो कोई मसअला उठाता है 

न कोई ओहदा न डिग्री न नाम की तख़्ती 
मैं रह रहा हूँ यहाँ मेरा घर बताता है 

समझ रहा हो कहीं ख़ुद को मेरी कमज़ोरी 
तो उस से कह दो मुझे भूलना भी आता है। 

                                 – Waseem Barelvi