This beautiful ghazal 'Miri Wafaon Ka Nassha Utaarane Wala' has written by Waseem Barelvi.

 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – मेरा क्या
प्रकाशन –  परम्परा प्रकाशन, नई दिल्ली
संस्करण – 2007


 Difficult Word  
बे-ग़रज़ = नि: स्वार्थ, बिना किसी रुचि के।

Miri Wafaon Ka Nassha Utaarane Wala

Miri wafaon ka nassha utaarane wala
Kahan gaya mujhe hans hans ke haarane wala

Humaari jaan chali jaye dekhna ye hai
Kahin nazar mein na aa jaye maarane wala

Bas ek pyaar ki baazi mein be-garaz baazi hai
Na koi jeet wala na koi haarane wala

Bhare makaan ka bhi apna nasha hai kya jaane
sharaab-khaane mein raatein guzaarane wala

Main us ka din bhi zamaane mein baant kar rakh doon
Wo meri raaton ko chhup kar guzaarane wala

'Waseem' hum bhi bikharne ka hausala karte hain
Humein bhi hota jo koi sanwarne wala.

(In Hindi)
मिरी वफ़ाओं का नश्शा उतारने वाला 
कहाँ गया मुझे हँस हँस के हारने वाला 

हमारी जान गई जाए देखना ये है 
कहीं नज़र में न आ जाए मारने वाला

बस एक प्यार की बाज़ी है बे-ग़रज़ बाज़ी 
न कोई जीतने वाला न कोई हारने वाला 

भरे मकाँ का भी अपना नशा है क्या जाने 
शराब-ख़ाने में रातें गुज़ारने वाला 

मैं उस का दिन भी ज़माने में बाँट कर रख दूँ 
वो मेरी रातों को छुप कर गुज़ारने वाला 

'वसीम' हम भी बिखरने का हौसला करते 
हमें भी होता जो कोई सँवारने वाला। 

                                 – Waseem Barelvi