This beautiful ghazal 'Mili Hawaon Mein Udne Ki Wo Saza Yaaro' has written by Waseem Barelvi.

 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – मेरा क्या
प्रकाशन –  परम्परा प्रकाशन, नई दिल्ली
संस्करण – 2007


  Difficult Words  
गर्द = गर्दा, धूल।
सदक़ = भिक्षा, प्रसाद।

Mili Hawaon Mein Udne Ki Wo Saza Yaaro 

Mili hawaon mein udne ki wo saza yaaro 
Ki main zameen ke rishton se kat gaya yaaro 

Wo be-khyaal musafir mein rasta yaaro 
Kahan tha bas mein mere us ko rokna yaaro 

Mere qalam pe zamaane ki gard aisi thi 
Ki apne baare mein kuch bhi na likh saka yaaro

Tamam shahar hi jis ki talash mein ghum tha 
Main us ke ghar ka pata kis se puchhta yaaro 

Jo be-shumaar dilon ki nazar mein rahta tha 
Wo apne bachhon ko ek ghar na de saka yaaro 

Janab-e-mir ki khud-gharziyon ke sadqe mein 
Miyan 'Waseem' ke kahne ko kya bacha yaaro.


(In Hindi)
मिली हवाओं में उड़ने की वो सज़ा यारो 
कि मैं ज़मीन के रिश्तों से कट गया यारो 

वो बे-ख़याल मुसाफ़िर में रास्ता यारो 
कहाँ था बस में मिरे उस को रोकना यारो 

मिरे क़लम पे ज़माने की गर्द ऐसी थी 
कि अपने बारे में कुछ भी न लिख सका यारो 

तमाम शहर ही जिस की तलाश में गुम था 
मैं उस के घर का पता किस से पूछता यारो 

जो बे-शुमार दिलों की नज़र में रहता था 
वो अपने बच्चों को इक घर न दे सका यारो 

जनाब-ए-मीर की ख़ुद-ग़र्ज़ियों के सदक़े में 
मियाँ 'वसीम' के कहने को क्या बचा यारो। 

                                 – Waseem Barelvi