This beautiful ghazal 'Mera Kiya Tha Main Toota Ki Bikhra Raha' has written by Waseem Barelvi.

 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – मेरा क्या
प्रकाशन –  परम्परा प्रकाशन, नई दिल्ली
संस्करण – 2007


  Difficult Word  
ग़म-ख़्वार = सांत्वना देने वाला, हमदर्द, दिलासा देने वाला।

Mera Kiya Tha Main Toota Ki Bikhra Raha

Mera kiya tha main toota ki bikhra raha 
Tere hathon mein to ek khilauna raha 

Ek zara si ana ke liye umr bhar 
Tum bhi tanha rahe main bhi tanha raha 

Tere jaane ka manzar hi gham-khwaar tha 
Zindagi bhar jo aankhon se lipta raha 

Mera ehsaas sadiyon pe phaila hua
Aisa aansu jo palken badalta raha 

Ghar ki sab raunaqen mujh se aur main 'Waseem'
Taq par ek diye jaisa jalta raha.


(In Hindi)
मेरा किया था मैं टूटा कि बिखरा रहा 
तेरे हाथों में तो इक खिलौना रहा 

इक ज़रा सी अना के लिए उम्र भर 
तुम भी तन्हा रहे मैं भी तन्हा रहा 

तेरे जाने का मंज़र ही ग़म-ख़्वार था 
ज़िंदगी भर जो आँखों से लिपटा रहा 

मेरा एहसास सदियों पे फैला हुआ 
ऐसा आँसू जो पलकें बदलता रहा

घर की सब रौनक़ें मुझ से और मैं 'वसीम' 
ताक़ पर इक दिए जैसा जलता रहा।

                                 – Waseem Barelvi