This beautiful ghazal Kya Bataau Kaise Khud Ko has written by Waseem Barelvi.

 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – मेरा क्या
प्रकाशन –  परम्परा प्रकाशन, नई दिल्ली
संस्करण – 2007


  Difficult Words  
दर-ब-दर = घर-घर जाकर।
पेच-ओ-ख़म = कठिनाई।
जब्र = मजबूरी, जबरदस्ती।

Kya Bataau Kaise Khud Ko

Kya bataau kaise khud ko dar-ba-dar main ne kiya
Uamr-bhar kis kis ke hisse ka safar main ne kiya

Tu to nafrat bhi na kar payega is shiddat ke saath
Jis bala ka pyaar tujh se be-khabar main ne kiya

Kaise bachchon ko bataau raaston ke pench-o-kham
Zindagi-bhar to kitaabon ka safar main ne kiya

Kis ko fursat thi ki batlaata tujhe itni si baat
Khud se kya bartaav tujh se chhoot kar main ne kiya

Chand jazbaati se rishton ke bachaane ko 'Waseem'
Kaisa kaisa zabr apne aap par main ne kiya hai .


(In Hindi)
क्या बताऊँ कैसे ख़ुद को दर-ब-दर मैं ने किया 
उम्र-भर किस किस के हिस्से का सफ़र मैं ने किया 

तू तो नफ़रत भी न कर पाएगा इस शिद्दत के साथ 
जिस बला का प्यार तुझ से बे-ख़बर मैं ने किया 

कैसे बच्चों को बताऊँ रास्तों के पेच-ओ-ख़म 
ज़िंदगी-भर तो किताबों का सफ़र मैं ने किया 

किस को फ़ुर्सत थी कि बतलाता तुझे इतनी सी बात 
ख़ुद से क्या बरताव तुझ से छूट कर मैं ने किया

चंद जज़्बाती से रिश्तों के बचाने को 'वसीम' 
कैसा कैसा जब्र अपने आप पर मैं ने किया। 

                                 – Waseem Barelvi