This beautiful Poetry 'Kuch Sawaalo Ke Jawaab Nahi Milte' has written and Performed by Shivani Parashar on The Social House's Plateform.


Kuch Sawaalo Ke Jawaab Nahi Milte

Ghum jaate hain hum vajood ke saaye mein 
Jazbaaton se khela kyon is qadar 
Is baat ke suraag nahin milte 

Kured rahi hoon main aaj phir waqt ki ret ko 
Na jaane kyon ismein bikhare, 
Tere mere haalaat nahin milte 
Kuch sawaalon ke jawaab nahin milte. 

Samet kar rooh ko phir jeena seekh liya hai 
Yoon mahsoos teri kami nahin, qisse aur bhi jud gaye hain mujhse 

Jo khoya uske baad safar ki thaani hi nahin 
Main sitaaron mein dhundhati thi jo raushni 
Aaj aankhon mein samaakar bhi uske chiraag nahin milte 
Kuch sawaalon ke jawaab nahin milte. 

Sawaal ye bhi hai kis hadd tak tu beparwaah hai 
Sawaal ye bhi hai mujhse khaas naraazgi thi ya dil bas ye mera hairaan hai 
Khair, meri jubaan par bhi ab tere naam ke alfaaz nahin milte 
Badal gayi hoon main bhi ab 
Afsos bas ye ki tujhe khabar tak nahin 
Mere khyaalon mein bhi tere ehsaas nahin milte 
Kuch sawaalon ke jawaab nahin milte. 

Mud kar halaat to jaan leta 
Itna to ajanbi bhi nahin gair hote 
Dafna kar har fikar 
Kya tujhe sach mein vaasta nahin tha koi? 
Agar haan!...to phir mujhe ye tamaam sawaal kyon milte 
Main bikhar rahi thi ye soch kar thoda to taras khaaya hota 
Itne majboor bhi nahin the tum ki
Mere tabaahi ke nishaan nahin milte
Kuch sawaalon ke jawaab nahin milte. 

Mujhe tu ab chaahiye nahin 
Ek baar azaad kiya to kiya 
Bas kuch parchhayiyaan hai jo poochh rahi 
Kaise kisi ko khud ke be-rang bayaan nahin milte 
Jo beh rahi hai hawa use bhi pata hai apna pata 
Phir kaise kuch logon ko 
Sab jaante hue bhi unke anjaam nahin milte 
Kyun kuch sawaalon ke jawaab nahin milte. 

Ek baat kahoon! 
Ab phir mat dohraana ye kisi gair ke saath 
Kabhi apna bana ke chhod do 
Tum thakte nahin ye khel, khelakar
Aur kuch logon ko aise sawaal milte hai 
Jinke zindagi bhar unke koi jawaab nahin milte 
Kah rahi hoon bahut kuch khafa to tu hoga mujhse 
Bas itna jaan le hazaaron dafa mainne inko kaid kiya hai 
Har kyun ko teri khushi mein samet diya hai 
Tu samjhe nahin inko itna nadaan to nahin 
Phir kya mila yoon hara kar mujhko mujhase hi 
Kaise karte ho saamna khud ka 
Kya aaine mein tumko wo sawaal nahin milte 
Jinke aaj bhi mujhe koi jawaab nahin milte.. 
Jinke aaj bhi mujhe koi jawaab nahin milte.

(In Hindi)
गुम जाते हैं हम वजूद के साये में
जज़्बातों से खेला क्यों इस क़दर
इस बात के सुराग नहीं मिलते

कुरेद रही हूं मैं आज फिर वक्त की रेत को
ना जाने क्यों इसमें बिखरे, 
तेरे मेरे हालात नहीं मिलते
कुछ सवालों के जवाब नहीं मिलते।

समेट कर रूह को फिर जीना सीख लिया है
यूं महसूस तेरी कमी नहीं, क़िस्से और भी जुड़ गए हैं मुझसे
जो खोया उसके बाद सफर की थानी ही नहीं
मैं सितारों में ढुंढती थी जो रौशनी
आज आंखों में समाकर भी उसके चिराग नहीं मिलते
कुछ सवालों के जवाब नहीं मिलते। 

सवाल ये भी है किस हद तक तू बेपरवाह है
सवाल ये भी है मुझसे खास नाराजगी थी या
दिल बस ये मेरा हैरान है

खैर, मेरी जुबां पर भी अब तेरे नाम के अल्फ़ाज़
नहीं मिलते
बदल गयी हूं मैं भी अब
अफसोस बस ये कि तुझे खबर तक नहीं
मेरे ख्यालों में भी तेरे एहसास नहीं मिलते
कुछ सवालों के जवाब नहीं मिलते।

मुड़ कर हालात तो जान लेता
इतना तो अजनबी भी नहीं गैर होते
दफना कर हर फिक्र 
क्या तुझे सच में वास्ता नहीं था कोई?
अगर हां!...तो फिर मुझे ये तमाम सवाल क्यों मिलते
मैं बिखर रही थी ये सोच कर थोड़ा तो तरस खाया होता
इतने मजबूर भी नहीं थे तुम कि 
मेरे तबाही के निशान नहीं मिलते
कुछ सवालों के जवाब नहीं मिलते।

मुझे तू अब चाहिए नहीं
एक बार आजाद किया तो किया
बस कुछ परछाइयां है जो पूछ रही 
कैसे किसी को खुद के बेरंग बयान नहीं मिलते
जो बह रही है हवा उसे भी पता है अपना पता
फिर कैसे कुछ लोगों को 
सब जानते हुए भी उनके अन्जाम नहीं मिलते
क्यूं कुछ सवालों के जवाब नहीं मिलते।

एक बात कहूं !
अब फिर मत दोहराना ये किसी गैर के साथ
कभी अपना बना के छोड़ दो
तुम थकते नहीं ये खेल, खेलकर
और कुछ लोगों को ऐसे सवाल मिलते है
जिनके जिंदगी भर उनके कोई जवाब नहीं मिलते
कह रही हूं बहुत कुछ खफा तो तू होगा मुझसे
बस इतना जान ले हजारों दफा मैंने इनको कैद किया है
हर क्यूं को तेरी खुशी में समेट दिया है
तू समझे नहीं इनको इतना नादान तो नहीं
फिर क्या मिला यूं हरा कर मुझको मुझसे ही
कैसे करते हो सामना खुद का
क्या आइने में तुमको वो सवाल नहीं मिलते
जिनके आज भी मुझे कोई जवाब नहीं मिलते..
जिनके आज भी मुझे कोई जवाब नहीं मिलते।

                                  – Shivani Parashar