This beautiful ghazal 'Koi Hans Raha Hai Koi Ro Raha Hai' has written by Akbar Allahabadi.


  Difficult Word  
गफ़लत = असावधानी, बेपरवाही, अचेतनता, बेसुधी।

Koi Hans Raha Hai Koi Ro Raha Hai 

Koi hans raha hai koi ro raha hai 
Koi pa raha hai koi kho raha hai 

Koi taak mein hai kisi ko hai gaflat 
Koi jaagta hai koi so raha hai 

Kahin na-ummeedi ne bijali giraayi 
Koi beej ummeed ke bo raha hai 

Isi soch mein main to rahta hoon 'Akbar' Yah kya ho raha hai yah kyon ho raha hai.


(In Hindi)

कोई हँस रहा है कोई रो रहा है
कोई पा रहा है कोई खो रहा है

कोई ताक में है किसी को है गफ़लत
कोई जागता है कोई सो रहा है

कहीँ नाउम्मीदी ने बिजली गिराई
कोई बीज उम्मीद के बो रहा है

इसी सोच में मैं तो रहता हूँ 'अकबर'
यह क्या हो रहा है यह क्यों हो रहा है

                                 – Akbar Allahabadi