This beautiful Ghazal 'Khul Ke Milne Ka Saleeka Aapko Aata Nahi' has written by Waseem Barelvi.

 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – मेरा क्या
प्रकाशन –  परम्परा प्रकाशन, नई दिल्ली
संस्करण – 2007

Khul Ke Milne Ka Saleeka Aapko Aata Nahi


Khul ke milne ka saleeka aap ko aata nahin 
Aur mere paas koi chor darwaja nahin 

Wo samajhta tha use pa kar hi main rah jaaunga 
Us ko meri pyaas ki shiddat ka andaza nahin 

Ja dikha Duniya ko mujh ko kya dikhaata hai guroor 
Tu samundar hai to hai main to magar pyasa nahin 

Koi bhi dastak kare aahat ho ya aawaaj de 
Mere haathon mein mira ghar to hai darwaja nahin 

Aapno ko apna kaha chaahe kisi darze ke ho 
Aur jab aisa kiya main ne to sharmaya nahin

Us ki mahfil mein unhin ki raushni jin ke charaag 
Main bhi kuch hota to mera bhi diya hota nahin 

Tujh se kya bichhada miri saari haqeeqat khul gayi
Ab koi mausam mile to mujh se sharmata nahin

(In Hindi)
खुल के मिलने का सलीक़ा आप को आता नहीं 
और मेरे पास कोई चोर दरवाज़ा नहीं 

वो समझता था उसे पा कर ही मैं रह जाऊँगा 
उस को मेरी प्यास की शिद्दत का अंदाज़ा नहीं 

जा दिखा दुनिया को मुझ को क्या दिखाता है ग़ुरूर 
तू समुंदर है तो है मैं तो मगर प्यासा नहीं 

कोई भी दस्तक करे आहट हो या आवाज़ दे 
मेरे हाथों में मिरा घर तो है दरवाज़ा नहीं 

अपनों को अपना कहा चाहे किसी दर्जे के हों 
और जब ऐसा किया मैं ने तो शरमाया नहीं

उस की महफ़िल में उन्हीं की रौशनी जिन के चराग़ 
मैं भी कुछ होता तो मेरा भी दिया होता नहीं 

तुझ से क्या बिछड़ा मिरी सारी हक़ीक़त खुल गई
अब कोई मौसम मिले तो मुझ से शरमाता नहीं। 

                                 – Waseem Barelvi