This beautiful ghazal Kahan Sawaab Kahan Kya Azaab Hota Hai has written by Waseem Barelvi.

 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – मेरा क्या
प्रकाशन –  परम्परा प्रकाशन, नई दिल्ली
संस्करण – 2007


  Difficult Words  
सवाब = अच्छे कर्मों का प्रतिफल।
अज़ाब = पीड़ा।
इज़्ज़त-मआब = सबसे सम्मानित, आदरणीय।
किताब-ए-ज़ीस्त = जीवन की पुस्तक।
बाब = दरवाज़ा, द्वार, परिच्छेद, अध्याय।

Kahan Sawaab Kahan Kya Azaab Hota Hai


Kahan sawaab kahan kya azaab hota hai
Mohbbaton mein kab itna hisaab hota hai

Bichhad ke mujh se tum apani kashish na kho dena 
Udaas rahane se chehara kharaab hota hai 

Use pata hi nahin hai ki pyaar ki baazi 
Jo haar jaye wahi kaamyaab hota hai 

Jab us ke paas ganwaane ko kuch nahin hota 
To koi aaj ka izzat-maeaab hota hai 

Jise main likhata hoon aise ki khud hi padh paanv 
Kitaab-e-zeest mein aisa bhi baab hota hai 

Bahut bharosa na kar lena apani aankhon par Dikhaai deta hai jo kuch wo khwaab hota hai.

(In Hindi)
कहाँ सवाब कहाँ क्या अज़ाब होता है 
मोहब्बतों में कब इतना हिसाब होता है 

बिछड़ के मुझ से तुम अपनी कशिश न खो देना 
उदास रहने से चेहरा ख़राब होता है 

उसे पता ही नहीं है कि प्यार की बाज़ी 
जो हार जाए वही कामयाब होता है 

जब उस के पास गँवाने को कुछ नहीं होता 
तो कोई आज का इज़्ज़त-मआब होता है 

जिसे मैं लिखता हूँ ऐसे कि ख़ुद ही पढ़ पाँव 
किताब-ए-ज़ीस्त में ऐसा भी बाब होता है 

बहुत भरोसा न कर लेना अपनी आँखों पर 
दिखाई देता है जो कुछ वो ख़्वाब होता है। 

                                 – Waseem Barelvi