This beautiful ghazal 'Kahan Katre Ki Gham-Khwaari Kare Hai' has written by Waseem Barelvi.

 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – आँखों आँखों रहे
प्रकाशन –  वाणी प्रकाशन
संस्करण – 2008


  Difficult Words  
ग़म-ख़्वारी = शोक, सांत्वना।
दस्तरस = पहुंच।

Kahan Katre Ki Gham-Khwaari Kare Hai 


Kahan katre ki gham-khwaari kare hai 
Samundar hai adaakaari kare hai 

Koi maane na maane us ki marzi 
Magar wo hukam to jaari kare hai 

Nahin lamha bhi jis ki dasat-ras mein 
Wahi sadiyon ki tayyaari kare hai 

Bade aadarsh hain baaton mein lekin 
Wo saare kaam baazaari kare hai 

Humaari baat bhi aaye to jaane
Wo baatein to bahut saari kare hai 

Yahi akhbaar ki surkhi banega 
Zara sa kaam chingaari kare hai 

Bulaawa aayega chal denge hum bhi 
Safar ki kaun tayyaari kare hai.


(In Hindi)
कहाँ क़तरे की ग़म-ख़्वारी करे है 
समुंदर है अदाकारी करे है 

कोई माने न माने उस की मर्ज़ी 
मगर वो हुक्म तो जारी करे है 

नहीं लम्हा भी जिस की दस्तरस में 
वही सदियों की तय्यारी करे है 

बड़े आदर्श हैं बातों में लेकिन 
वो सारे काम बाज़ारी करे है 

हमारी बात भी आए तो जानें 
वो बातें तो बहुत सारी करे है 

यही अख़बार की सुर्ख़ी बनेगा 
ज़रा सा काम चिंगारी करे है 

बुलावा आएगा चल देंगे हम भी 
सफ़र की कौन तय्यारी करे है। 

                                 – Waseem Barelvi