This beautiful Ghazal 'Door Se Hi Bas Dariya Dariya Lagta Hai' has written by Waseem Barelvi.

 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – आँखों आँखों रहे
प्रकाशन –  वाणी प्रकाशन
संस्करण – 2008


 Difficult Word 
मुसव्विर = तस्वीर बनाने वाला व्यक्ति, कलाकार।

Door Se Hi Bas Dariya Dariya Lagta Hai 


Door se hi bas dariya dariya lagta hai 
Doob ke dekho kitna pyaasa lagta hai 

Tanhaan ho to ghabraya sa lagta hai, 
Bhid mein us ko dekh ke accha lagta hai 

Aaj ye hai kal aur yahan hoga koi, 
Socho to sab khel-tamaasha lagta hai 

Main hi na maanun mere bikharne mein warna, 
Duniya bhar ko haath tumhara lagta hai 

Zehan se kaagaz par tasveer utarte hi, 
Ek musavvir kitna akela lagta hai 

Pyaar ke is nasha ko koi kya samjhe, 
Thokar mein jab saara zamaana lagta hai 

Bhid mein rah kar apna bhi kab rah paata, 
Chaand akela hai to sab ka lagta hai 

Shaakh pe baithi bholi-bhaali ek chidiya, 
Kya jaane us par bhi nishana lagta hai.  



(In Hindi)
दूर से ही बस दरिया दरिया लगता है 
डूब के देखो कितना प्यासा लगता है 

तन्हां हो तो घबराया सा लगता है, 
भीड़ में उस को देख के अच्छा लगता है 

आज ये है कल और यहाँ होगा कोई, 
सोचो तो सब खेल-तमाशा लगता है 

मैं ही न मानूँ मेरे बिखरने में वर्ना, 
दुनिया भर को हाथ तुम्हारा लगता है 

ज़ेहन से काग़ज़ पर तस्वीर उतरते ही, 
एक मुसव्विर कितना अकेला लगता है 

प्यार के इस नशा को कोई क्या समझे, 
ठोकर में जब सारा ज़माना लगता है 

भीड़ में रह कर अपना भी कब रह पाता, 
चाँद अकेला है तो सब का लगता है 

शाख़ पे बैठी भोली-भाली इक चिड़िया, 
क्या जाने उस पर भी निशाना लगता है।    

                                 – Waseem Barelvi