This beautiful ghazal 'Andhera Zehan Ka Samt-e-safar Jab Khone Lagata Hai' has written by Waseem Barelvi.

 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – आँखों आँखों रहे
प्रकाशन –  वाणी प्रकाशन
संस्करण – 2008


  Difficult Words  
सम्त-ए-सफ़र = यात्रा की दिशा में।
मिल्किय्यत = संपत्ति, कब्जा।

Andhera Zehan Ka Samt-e-safar Jab Khone Lagata Hai

Andhera zehan ka samt-e-safar jab khone lagata hai
Kisi ka dhyaan aata hai ujaala hone lagata hai

Wo jitni door ho utna hi mera hone lagata hai
Magar jab paas aata hai to mujh se khone lagata hai

Kisi ne rakh diye mamata-bhare do haath kya sar par
Mire andar koi bachcha bilak kar rone lagata hai

Mohabbat chaar din ki aur udaasi zindagi bhar ki
Yahi sab dekhata hai aur kabeera rone lagata hai

Samajhate hi nahin nadaan kai din ki hai milkiyyat
Paraye kheton pe apno mein jhagada hone lagata hai

Ye dil bach kar zamaane bhar se chalana chaahe hai lekin
Jab apni raah chalta hai akela hone lagata hai


(In Hindi)
अंधेरा ज़ेहन का सम्त-ए-सफ़र जब खोने लगता है
किसी का ध्यान आता है उजाला होने लगता है

वो जितनी दूर हो उतना ही मेरा होने लगता है
मगर जब पास आता है तो मुझ से खोने लगता है

किसी ने रख दिए ममता-भरे दो हाथ क्या सर पर
मिरे अंदर कोई बच्चा बिलक कर रोने लगता है

मोहब्बत चार दिन की और उदासी ज़िंदगी भर की
यही सब देखता है और 'कबीरा' रोने लगता है

समझते ही नहीं नादान कै दिन की है मिल्किय्यत
पराए खेतों पे अपनों में झगड़ा होने लगता है

ये दिल बच कर ज़माने भर से चलना चाहे है लेकिन
जब अपनी राह चलता है अकेला होने लगता है

                                    – Waseem Barelvi