This beautiful Ghazal 'Ye Barf Raatein Bhi Bankar Abhi Dhuaan Udd Jaayein' has written and performed by Rahat Indori.l

Ye Barf Raatein Bhi Bankar Abhi Dhuaan Udd Jaayein

Ye barf raatein bhi bankar abhi dhuaan udd jaayein 
Wo ek lihaaf main odhu to sardiyaan udd jaayein 

Bahut guroor hai dariya ko apne hone par 
Jo meri pyaas se uljhe to dhajjiyaan ud jaayein 

Hawaayein baaz kahaan aati hain shararat se 
Saron pe haath na rakhein to pagdiyaan udd jaayein 

Bikhar-bikhar si gayi hai kitaab saanson ki 
Ye kaagzaat khuda jaane kab kahaan udd jaayein 

ये बर्फ रातें भी बनकर अभी धुंआ उड़ जाएँ 
वो एक लिहाफ मैं ओढ़ू तो सर्दियां उड़ जाएँ।

बहुत गुरूर है दरिया को अपने होने पर,
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियां उड़ जाएँ।

हवाएं बाज़ कहाँ आती हैं शरारत सें,
सरों पे हाथ न रखें तो पगड़ियां उड़ जाएँ।

बिखर-बिखर सी गयी है किताब साँसों की, 
ये कागज़ात खुदा जाने कब कहाँ उड़ जाएँ। 


                                          – Rahat Indori