This is a beautiful and heart touching poem 'Shayad Wo Pyar Nahi', which 'Yahya Bootwala' presented very beautifully and also written. So far 13 million people have view this poem in the Spill Poetry channel of the YOU TUBE.


This is a beautiful and heart touching poem 'Shayad Wo Pyar Nahi', which 'Yahya Bootwala' presented very beautifully and also written. So far 13 million people have view this poem in the Spill Poetry channel of the YOU TUBE.

Shayad Wo Pyar Nahi

Pehli nazar me tumne use dekha aur usne tumhe 
Aur is love at first sight ko tum mohabbat keh rahe ho 
To ho sakta hain tum galat ho...!

Kyonki yaar pehli nazar me to hume antique chize bhi pasand aa jati hain
Par hum use ghar me rakhte hain dikhane ke liye..

Bas kyuki der raat tak tum dono ek dusre se dher ssari baate karte ho 
Aur ise tum mohabbat samajhte ho 
To ho sakta hain tum galat ho...!

Kyonki yaar akelepan ke maare to do anjaan musafir bhi ek dusre se baat kar hi lete hain..

Are agar kisi ladki ko dekh kar wo tumhara hath pakad leti hain 
Aur kisi ladke ko dekh kar tum uska
Aur is cute jealousy ko tum mohabbat keh rahe ho, 
To ho sakta hain tum galat ho...!

Kyonki  yaar parindon ko pakda jata hain pinjare me kaid karne ke liye
Unhe azad karne ke liye nahi..

Bas kyonki ab tum dono ek dusre ki baato ko samajh paa rahe ho 
Aur ise tum mohabbat kehte ho 
To ho sakta hain tum galat ho....!

Kyonki yaad rakho..!  
2 bhukhe bhikhari bhi ek dusre ki bhukh samajh sakte hain 
Par mita nahi sakte..

Are agar tum anniversary ka celebration har mahine kar rahe ho
Aur ise tum mohabbat kehte ho 
To ho sakta hain tum galat ho....!

Kyonki Dastan-e-Ishq ko bayaan karne ke liye 
Saal ka koi number nahi chahiye hota..

Are bas kyonki tum uski insta stories ka 
Aur wo tumhari snap-stories ka hissa ban chuki hain 
Aur ise tum mohabbat kehte ho 
To ho skta hain tum galat ho....!

Kyonki yaar mohabbat ko filtero ke sath save nahi kiya jata, 
Use bas usi lamhe me jiya jata hain..

Haa lekin agar jismo me ulzne se pehle tum uski zulfo me ulzna chahte ho
Agar wo bekhauf apna bachpana tumhare samne zaya kar deti hain,

Agar uske kapdo ke beparda hone se pehle 
Tumne apne sare raaz uske samne khol diye 
Aur usne bhi apne sare dar ka zikr tumhare samne kar diya hain,

Agar uska har aansoo tumhare hi kameez par behta ho 
Aur tumhare muskan ki wajah uski nadaniyaan ho 
To shayad, shayad nahi yaar yahi pyar hain 
Aur agar ye yahi pyar hain aur agar ye pyaar tumhe mil gaya hain to 
Ise pakad lo, jakad lo, gale laga lo aur jaha kahi bhi mauka mile bas ise kehte raho 
Ke tum use kitna pyar karte ho 
Kyonki aisi mohabbat se mulaqaat hone me zindagi ka ek kafi lamba arsa beet jata hain...


(In Hindi)

पहली नज़र में तुमने उसे देखा और उसने तुम्हें
और इस love at first sight को तुम मोहब्बत कह रहे हो
तो हो सकता हैं तुम गलत हो...!

क्योंकि यार पहली नज़र में तो हमे Antique चीज़े भी पसंद आ जाती हैं
पर हम उसे घर में रखते हैं दिखाने के लिए..

बस क्योंकि देर रात तक तुम दोनों एक दूसरे से ढेर सारी बाते करते हो 
और इसे तुम मोहब्बत समझते हो 
तों हो सकता हैं तुम गलत हो....!

क्योंकि यार अकेलेपन के मारे तो दो अनजान मुसाफिर भी एक दूसरे से बात कर ही लेते हैं..

अरे अगर किसी लड़की को देख कर वो तुम्हारा हाथ पकड़ लेती हैं 
और किसी लड़के को देख कर तुम उसका 
और इस cute jealousy को तुम मोहब्बत कह रहे हो 
तो हो सकता हैं तुम गलत हो...!

क्योंकि यार परिंदों को पकड़ा जाता हैं पिंजरे में कैद करने के लिए
उन्हे आज़ाद करने के लिए नहीं..

बस क्योंकि अब तुम दोनों एक दूसरे की बातो को समझ पा रहे हो 
और इसे तुम मोहब्बत कहते हो 
तो हो सकता हैं तुम गलत हो...! 

क्योंकि याद रखो..!  
2 भूखे भिखारी भी एक दूसरे की भूख समझ सकते हैं 
पर मिटा नहीं सकते..

अरे अगर तुम anniversary का celebration हर महीने कर रहे हो 
और इसे तुम मोहब्बत कहते हो 
तो हो सकता हैं तुम गलत हो....!

क्योंकि दास्ताँ-ए-इश्क़ को बयान करने के लिए साल का कोई नंबर नहीं चाहिए होता..

अरे बस क्योंकि तुम उसकी इंस्टा-स्टोरीज का
और वो तुम्हारी स्नेप-स्टोरीज का हिस्सा बन चुकी हैं 
और इसे तुम मोहब्बत कहते हो 
तो हो सकता हैं तुम गलत हो....!

क्योंकि यार मोहब्बत को Filtero के साथ Save नहीं किया जाता 
उसे बस उसी लम्हें में जिया जाता हैं..

हां लेकिन अगर जिस्मों में उलझने से पहले तुम उसकी ज़ुल्फो में उलझना चाहते हो
अगर वो बेख़ौफ़ अपना बचपना तुम्हारे सामने जाया कर देती हैं 
उसके कपड़ो के बेपर्दा होने से पहले तुमने अपने सारे राज उसके सामने खोल दिए 
और उसने भी अपने सारे डर का ज़िक्र तुम्हारे सामने कर दिया हैं, 
उसका हर आंसू तुम्हारे ही कमीज पर बहता हो 
और तुम्हारे मुस्कान की वजह उसकी नादानियाँ हो 
तो शायद, शायद नहीं यार.. यही प्यार हैं 
और अगर ये यही प्यार हैं और अगर ये प्यार तुम्हे मिल गया हैं 
तो इसे पकड़ लो, जकड लो, गले लगा लो 
और जहां कही भी मौका मिले बस इसे कहते रहो
कि तुम उसे कितना प्यार करते हो
क्योंकि ऐसी मोहब्बत से मुलाक़ात होने में ज़िन्दगी का एक काफी लम्बा अरसा बीत जाता हैं.....
               
                                 – Yahya Bootwala 





More Poems of Yahya Bootwala:

Cycle Storytelling Lyrics - Yahya Bootwala | UnErase Poetry