This Poetry 'Sab Pyaase Hain Sabka Apna Zariya Hai Badhiya Hai' has written and performed by Rahat Indori.

Sab Pyaase Hain Sabka Apna Zariya Hai, Badhiya Hai

Sab pyaase hain sabka apna zariya hai, badhiya hai 
Har kulhad mein chota mota dariya hai badhiya hai 

Andhi, goongi, behri siyasat rassi par chalti hai 
Kayi madaari hain aur ek bandariya hai badhiya hai 

Imaano ka sauda in dukaano mein hota hai 
Sansad kya hai bhaiyya, ek bazariya hai badhiya hai 

Bharat bhaagya vidhata saare bharat mein ugte hain 
Modi hain, Advani hain, Togadiya hain badhiya hai

(In Hindi)

सब प्यासे हैं सबका अपना जरिया है बढ़िया हैं
हर कुल्हड़ में छोटा मोटा दरिया है बढ़िया हैं

अंधी, गूंगी, बहरी सियासत रस्सी पर चलती हैं
कई मदारी हैं और एक बंदरिया है बढ़िया हैं

इमानो का सौदा इन दुकानों में होता हैं
संसाद क्या हैं भैय्या, एक बजरिया हैं बढ़िया हैं

भारत भाग्य विधाता सारे भारत में उगते हैं
मोदी हैं, आडवाणी हैं, तोगड़िया हैं बढ़िया हैं

                                        – Rahat Indori