This Beautiful Poetry 'Pehla Kisi Ka Ishq Tha' has written and performed by Imtiyaz Khan at 5th Jashn-e-Rekhta

Pehla Kisi Ka Ishq Tha

Nashe mein ye kya samajh liya tha 
Khuda ko banda samajh liya tha 
Hum uske dil tak pahunchte kaise? 
Badan ko rasta samajh liya tha. 

Milan, judaai, tadap, udaasi  
Ye khel saara samajh liya tha 
Use yu chhoda ki usne humko 
Bahut jyada samajh liya tha 

Wo tabassum tha jahan shayad wahi par rah gaya
Meri aankhon ka har ek manzar kahin par rah gaya 
Main to hokar aa gaya aazad uski kaid se 
Dil magar is jaldbaazi mein wahin par rah gaya
Aur humko aksar ye khyaal aata hai usko dekh kar 
Ye sitaara kaise galti se zameen par reh gaya 
Ehsaan zindagi par kiye ja rahe hain hum 
Man to nahin hai phir bhi jiye ja rahe hain hum 
Pahla kisi ka ishq tha, dooja hai shayari 
Do haadson ko ek kiye ja rahe hain hum
Aye shahar-e-naamurad mubaarak ke ab ke baar 
Wapas na lautne ke liye ja rahe hain hum.

(In Hindi)

नशे में ये क्या समझ लिया था 
खुदा को बंदा समझ लिया था 
हम उसके दिल तक पहुंचते कैसे 
बदन को रस्ता समझ लिया था 

मिलन, जुदाई, तड़प, उदासी  
ये खेल सारा समझ लिया था 
उसे यू छोड़ा कि उसने हमको 
बहुत ज्यादा समझ लिया था 

वो तबस्सुम था जहां शायद वही पर रह गया
मेरी आंखों का हर एक मंजर कहीं पर रह गया 
मैं तो होकर आ गया आजाद उसकी कैद से 
दिल मगर इस जल्दबाजी में वहीं पर रह गया
और हमको अक्सर ये ख़्याल आता है उसको देख कर 
ये सितारा कैसे गलती से जमीन पर रह गया 
एहसान जिंदगी पर किए जा रहे हैं हम 
मन तो नहीं है फिर भी जिएं जा रहे हैं हम 
पहला किसी का इश्क था, दूजा है शायरी 
दो हादसों को एक किए जा रहे हैं हम
ऐ शहर-ए-नामुराद मुबारक के अब के बार 
वापस न लौटने के लिए जा रहे हैं हम
                                 
                                           – Imtiyaz Khan