This beautiful Poem 'Kaisa Hota Hoga Ishwar' has written and performed by Gopal Datt. Shots at Cuckoo Club Bandra.


Kaisa Hota Hoga Ishwar

Main thik thik to nahin jaanta 
Kaisa hota hoga ishwar
Par shayad kisi kahanikaar
Jaisa hota hoga
Apne mukhay paatron ki katha likhne mein vyast 
Humen bhula hua saa

Usne likha hoga bheed 
Aur uski kalam ke niche 
Hum sab ikattha ho gaye honge 
Par us ek pal mein 
Hum sab ne mahsoos kiya hoga
Ishwar ke haathon apna likha jaana
Aur utna hi ansh
Aastha ka humaare paas bacha rah gaya hoga

Main thik thik to nahin jaanta
Kaisi hoti hogi aastha ? 
Par shayad kisi dukh aur peeda se bhare drishay ko dekhte hue 
Sukhaant ke pata hone jaisi hoti hogi aastha
Ya phir shayad, do mahanaaykon ke yuddh ke bich chupchaap
Bina virodh ka swar uthaye, 
Maare jaane jaisi hoti hogi aastha 

Mai thik thik to nahin jaanta 
Kaise sunta hoga ishwar humari praarthnayein 
Par shayad jab kisi ek dukh par
Bahaayein hue bahut saare aansu 
Sukh kar baadal ban jaate honge 
Aur aasmaan ki neeli slate par likhte honge koi sanket
Jise bas ishwar padh sakta hai 
Aur isiliye shayad main thik thik nahin jaanta
Kaisa hota hoga ishwar
Kyonki ishwar ko nahin jaanne ke dukh mein
Abhi utne aansu bahaaye nahin gaye hain 
Jitna ki khoon...!


(In Hindi)

मैं ठीक ठीक तो नहीं जानता 
कैसा होता होगा ईश्वर
पर शायद किसी कहानीकार
जैसा होता होगा
अपने मुख्य पात्रों की कथा लिखने में व्यस्त 
हमें भुला हुआ सा

उसने लिखा होगा भीड़ 
और उसकी कलम के नीचे 
हम सब इकट्ठा हो गए होंगे 
पर उस एक पल में 
हम सब ने महसूस किया होगा
ईश्वर के हाथों अपना लिखा जाना
और उतना ही अंश
आस्था का हमारे पास बचा रह गया होगा

मै ठीक ठीक तो नहीं जानता
कैसी होती होगी आस्था ? 
पर शायद किसी दुख और पीड़ा से भरे दृश्य को देखते हुए 
सुखांत के पता होने जैसी होती होगी आस्था
या फिर शायद दो महानायकों के युद्ध के बीच चुपचाप
बिना विरोध का स्वर उठाए, 
मारे जाने जैसी होती होगी आस्था 

मै ठीक ठीक तो नहीं जानता 
कैसे सुनता होगा ईश्वर हमारी प्रार्थनाएं 
पर शायद जब किसी एक दुख पर
बहाएं हुए बहुत सारे आंसू 
सूख कर बादल बन जाते होंगे 
और आसमान की नीली स्लेट पर लिखते होंगे कोई संकेत
जिसे बस ईश्वर पढ़ सकता है 
और इसीलिए शायद मैं ठीक ठीक नहीं जानता
कैसा होता होगा ईश्वर
क्योंकि ईश्वर को नहीं जानने के दुख में
अभी उतने आंसू बहाए नहीं गए हैं 
जितना की खून...!

                                           – Gopal Datt