This beautiful Hindi poem 'Bhagam Bhag' is based on all those who travel every day in this crowded world in search of their identity, written by Kumar Vishwas.

This beautiful Hindi poem 'Bhagam Bhag' is based on all those who travel every day in this crowded world in search of their identity, written by Kumar Vishwas.


भागम भाग ( Bhagam Bhag )

Ye itne log kahan jaate hain subah subah 
Dher si chamak chehek chehre pe latkaaye huye 
Hansi ko bechkar bemol waqt ke haathon 
Shaam tak unhi thakaanon mein lautne ke liye 
Ye itne log kahan jaate hain subah subah 

Ye itne paanv sadak ko salaam karte hain 
Haraaraton ko apni bakaya neend pila 
Usi udaas aur peeli si roshni mein lipat 
Raat tak unhi makaanon mein lautne ke liye 
Ye itne log kahan jaate hain subah subah 
Shaam tak unhi thakaanon mein lautne ke liye
Ye itne log jinmein kabhi main shaamil tha 
Ye saare log jo simtein to sheher banta hai 
Sheher ka dariya kyon subah se phoot padta hai 
Raat ki sard chattaanon mein lautne ke liye 
Ye itne log kahan jaate hain subah subah 
Shaam tak unhi thakaanon mein lautne ke liye 
Shaam tak unhi makaanon mein lautne ke liye 

Ye itne log kya inmein wo log shaamil hain 
Jo kabhi meri tarah pyar ji gaye honge 
Ya inmein koi nahi zinda, sirf laashein hain 
Ye bhi kya zindagi ka zeher pi gaye honge 
Ye saare log nikalte hain ghar se in sabko 
Itna maaloom hai jaana hai laut aana hai 
Ye saare log bhale lagte ho mashinon se 
Magar in zinda mashinon ka ik thikana hai 
Mujhe to itna bhi maaloom nahi jana hai kahan 
Maine pucha nahi tha, tune bataya tha kahan 
Khud mein simta hua, thithka sa khada hun aise 
Mujhpe hansta hai mera waqt mere donon jahaan 
Jo tere ishq mein seekhe hain ratjage maine 
Unhi ki goonj poori raat aati rehti hai
Subah jab jagta hai ambar to roshni ki pari 
Meri palkon pe angaare bichaati rehti hai 
Main is sheher mein sabse judaa, tujhse, khudse 
Subah aur shaam ko ek saar karta rehta hun 
Maut ki fahisha aurat se mila kar aankhein 
Subah se zindagi par vaar karta rehta hun 
Main kitna khush tha chamakti huyi duniya mein meri 
Magar tu chhod gaya haath mera mele mein
Itni bhatkan hai meri soch ke parindon mein 
Main khudse milta nahin bheed mein akele mein Jab talak jism ye mitti na ho phir se tab tak 
Mujhe to koi bhi manzil nazar nahi aati Ye din aur raat ki saazish hai wagarna meri 
Kabhi bhi shab nahi dhalti, seher nahi aati 
Tabhi to roz hi sochta rehta hun main
Ye itne log kahan jaate hain subah subah 

Dher si chamak chehek chehre pe latkaaye huye 
Hansi ko bechkar bemol waqt ke haathon 
Shaam tak unhi thakaanon mein lautne ke liye 
Usi udaas aur peeli si roshni mein lipat 
Raat tak unhi makaanon mein lautne ke liye 
Raat ki sard chattaanon mein lautne ke liye 
Ye itne log kahan jaate hain subah subah


(In Hindi)

ये इतने लोग कहाँ जाते हैं सुबह-सुबह 
ढ़ेर सी चमक, चहक चेहरे पे लटकाये हुए, 
हंसी को बेचकर, बेमोल वक़्त के हाथों 
शाम तक उन्हीं थकानों में लौटने के लिए, 
ये इतने लोग कहाँ जाते हैं सुबह-सुबह

ये इतने पाँव सड़क को सलाम करते हैं 
हरारतों को अपनी बकाया नींद पीला 
उसी उदास और पीली सी रौशनी में लिपट 
रात तक उन्हीं मकानों में लौटने के लिए, 
ये इतने लोग कहाँ जाते हैं सुबह-सुबह  
शाम तक उन्हीं थकानों में लौटने के लिए,
ये इतने लोग जिनमें कभी मैं शामिल था 
ये सारे लोग जो सिमटें तो शहर बनता है 
शहर का दरिया क्यों सुबह से फूट पड़ता है 
रात की सर्द चट्टानों में लौटने के लिए 
ये इतने लोग कहाँ जाते हैं सुबह-सुबह
शाम तक उन्हीं थकानों में लौटने के लिए, 
शाम तक उन्हीं मकानों में लौटने के लिए। 

ये इतने लोग क्या इनमें वो लोग शामिल हैं 
जो कभी मेरी तरह प्यार जि गए होंगे 
या इनमें कोई नहीं ज़िंदा सिर्फ लाशें हैं 
ये भी क्या ज़िन्दगी का ज़हर पि गए होंगे 
ये सारे लोग निकलते हैं घर से इन सबको 
इतना मालूम है, जाना है, लौट आना है 
ये सारे लोग भले लगते हो मशीनों से 
मगर इन ज़िंदा मशीनों का इक ठिकाना है 
मुझे तो इतना भी मालूम नहीं जाना है कहाँ 
मैंने पूछा नहीं था तूने बताया था कहाँ 
खुद में सिमटा हुआ ठिठका सा खड़ा हूँ ऐसे 
मुझपे हँसता है मेरा वक़्त मेरे दोनों जहां 
जो तेरे इश्क़ में सीखे हैं रतजगे मैंने 
उन्हीं की गूँज पूरी रात आती रहती हैं
सुबह जब जगता है अम्बर तो रौशनी की परी 
मेरी पलकों पे अंगारे बिछाती रहती हैं 
मैं इस शहर में सबसे जुड़ा तुझसे खुद से 
सुबह और शाम को एक सार करता रहता हूँ 
मौत की फाहिशा औरत से मिला कर आँखें 
सुबह से ज़िन्दगी पर वार करता रहता हूँ 
मैं कितना खुश था, चमकती हुई दुनिया में मेरी 
मगर तू छोड़ गया हाथ मेरा मेले में,
इतनी भटकन है मेरी सोच के परिंदों में 
मैं खुद से मिलता नहीं भीड़ में
अकेले में जब तलक जिस्म ये मिटटी न हो फिर से तब तक 
मुझे तो कोई भी मंज़िल नज़र नहीं आती
ये दिन और रात की साज़िश है वगरना मेरी 
कभी भी शब नहीं ढलती सेहर नहीं आती 
तभी तो रोज़ ही सोचता रहता हूँ मैं
ये इतने लोग कहाँ जाते हैं सुबह-सुबह 

ढ़ेर सी चमक, चहक चेहरे पे लटकाये हुए 
हंसी को बेचकर बेमोल वक़्त के हाथों 
शाम तक उन्हीं थकानों में लौटने के लिए, 
उसी उदास और पीली सी रौशनी में लिपट 
रात तक उन्हीं मकानों में लौटने के लिए, 
रात की सर्द चट्टानों में लौटने के लिए, 
ये इतने लोग कहाँ जाते हैं सुबह-सुबह।

                                  – Kumar Vishwas

Sourced By –  Kumar Vishwas Official YouTube Channel