This beautiful poetry 'Bol Na' has inspired by Zakir Khan' Poem 'Kuch Sawal Hai Tumse', written and performed by Yahya Bootwala, Shots at 'The Habitat'.


This beautiful poetry 'Bol Na' has inspired by Zakir Khan' Poem 'Kuch Sawal Hai Tumse', written and performed by Yahya Bootwala, Shots at 'The Habitat'.

Bol Na

Teri galiyon se mera guzarna kya kam hua , sidiyon par baithe tere aashiq ka intzaar mukmmal sa ho gaya,

Par kuch sawal hai tujhse,

Kya teri peshaani ki shikanzon ko uske honth aise hi sahla dete hai jaise mere honth sahlaya karte the

Kya uski paas aati saanson ki garmi tere dil ki dhakdan waise hi badha deti hai jaise meri saanse badhaya karti thi

Kya sard raaton me tu aaj bhi kambal chhupa deti hai taaki lipatne ka ek aur bahana mil jaaye

Kya sabaab ke nashe mein gum ho ke tu usko apne saare raj bata deti hai aur phir hosh me aa ke wahi baatein dohra deti hai jaise mere saamne dohraaya karti thi

Bol na.....

Kya tu apni julfon ko apne gaalon se phisalne deti hai taaki wo apni unguliyon se unhen pichhe kar sake waise hi jaise main kiya karta tha

Kya wo bhi teri aankhon mein aankhen daalke shaamon ko raaten kar deta hai jaise main kiya karta tha, kya use bhi dikha di teri wo saari tasveeren, jisme tu aaj bhi apna bachpan khojti hai

Kya use bhi bata di wo saari baaten jo tune mujhe yah kah kar bataayi thi ki aajtak kisi ko nahin bataaya

Bol na....

Chal in sab sawalon ka jawab mat de !

bas ek sawal ka jawab de !

Ke kya tu bhul gayi vo raat jab kamre mein sirf hum the maine tujhe kas ke pakda tha tere kaandhe pe sar jhuka ke tere kaano me halke se ye kaha tha

"ki kabhi chhodna mat" aur tune kaha tha kabhi nahin

Bol na......


(In Hindi)

तेरी गलियों से मेरा गुजरना क्या कम हुआ , सीड़ियों पर बैठे तेरे आशिक का इंतजार मुकम्मल सा हो गया,

पर कुछ सवाल है तुझसे,

क्या तेरी पेशानी की शिकंजों को उसके होंठ ऐसे ही सहला देते है जैसे मेरे होंठ सहलाया करते थे

क्या उसकी पास आती सांसों की गर्मी तेरे दिल की धकड़न वैसे ही बढ़ा देती है जैसे मेरी सांसे बढ़ाया करती थी

क्या सर्द रातों मे तू आज भी कम्बल छुपा देती है ताकि लिपटने का एक और बहाना मिल जाये

क्या सबाब के नशे में गुम हो के तू उसको अपने सारे राज बता देती है और फिर होश मे आ के वही बातें दोहरा देती है जैसे मेरे सामने दोहराया करती थी

बोलना.....

क्या तू अपनी जुल्फों को अपने गालों से फिसलने देती है ताकि वो अपनी उंगुलियों से उन्हें पीछे कर सके वैसे ही जैसे मैं किया करता था

क्या वो भी तेरी आँखों में आँखें डालके शामों को रातें कर देता है जैसे मैं किया करता था क्या उसे भी दिखा दी तेरी वो सारी तस्वीरें, जिसमें तू आज भी अपना बचपन खोजती है

क्या उसे भी बता दी वो सारी बातें जो तूने मुझे यह कहकर बतायी थीं कि आजतक किसी को नहीं बताया

बोलना....

चल इन सब सवालों का जवाब मत दे !

बस एक सवाल का जवाब दे !

के क्या तू भूल गई वो रात जब कमरे में सिर्फ हम थे मैंने तुझे कस के पकड़ा था तेरे कांधे पे सर झुका के तेरे कानो मे हल्के से ये कहा था

"कि कभी छोड़ना मत" और तूने कहा था कभी नहीं

बोलना......

                                – Yahya Bootwala