Mujh Ko Accha Sa Koi Zakhm Aata Kar Do Lyrics Performance By Zubair Ali Tabish

Mujh Ko Accha Sa Koi Zakhm Ataa Kar Do Na


Main kya bataun wo kitna kareeb hai mere 
Mera khyaal bhi usko sunaai deta hai 
Wo jisne aankh ataa ki hai dekhne ke liye
Wo jisne aankh ataa ki hai dekhne ke liye
Usi ko chhodkar sab kuch dikhaai deta hai.

Khaali baithe ho to ek kaam mera kar do na, 
Mujhko accha sa koi jakhm ataa kar do na
Dhyaan se panchhiyon ko dete ho daana paani, 
Itne acche ho to pinjre se riha kar do na 
Jab kareeb aa hi gaye ho to udaasi kaisi? 
Jab diya de hi rahe ho to jalakar, do na

Isi khushi ne mera dam nikaal rakha hai 
Ki usne ab bhi mera gam sambhaal rakha hai 
Main khaak hi to hun aakhir, mera banega kya? 
Mujhe kumhaar ne chakkar mein daal rakhaa hai
Aur mere khilaaf mile hain kayi saboot magar, 
Mere vakeel ne jaj ko sambhaal rakha hai।

Sitam dhaahte hue, socha karoge? 
Humaare saath tum aisa karoge?
Anguthi to mujhe lauta rahe ho 
Anguthi ke nishaan ka kya karoge? 
Main tumse ab jhagdta bhi nahin hun 
Toh kya is baat par jhagda karoge?
Wo dulhan banke rukhsat ho gayi hai
Kahan tak Car ka pichha karoge? 

Bhid to uncha hi sunegi dost 
Meri aawaaj gir padegi dost 
Meri takdeer teri khidki hai
Meri takdeer kab khulegi dost? 
Aur gaanv mera bahut hi chhota hai
Teri gaadi nahin rukegi dost
Dosti lafz hi mein do hai do 
Sirf teri nahin chalegi dost.



Wo kya hai ki phoolon ko dhokha hua tha 
Tera sut titli ne pahna hua tha 
Mujhe kya pata baadh mein kaun dooba 
Main kashti banaane mein dooba hua tha 
Main shayad usi haath mein rah gaya hoon 
Wahi haath jo mujhse chhuta hua tha 
Kisi ki jagah par khada ho gaya main 
Meri sit par koi baitha hua tha
Puraani ghazal dustbin mein padi thi 
Naya sher table par rakha hua tha 
Tumhein dekh kar kuch to bhula hua hoon 
Are yaad aaya ! main rootha hua tha. 

Apne bacchon se bahut darta hoon main 
Bilkul apne baap ke jaisa hoon main 
Jinko aasaani se mil jaata hoon main 
Wo samajhte hain bahut sasta hoon main 
Ja nadi se puchh shairaabi meri 
Kis ghade ne kah diya pyasa hoon main ?
Meri khwahish hai ki darwaaje khule 
Warna khidki se bhi aa sakta hoon main 
Dusre bas tod sakte hain mujhe 
Sirf apni chaabi se khulta hoon main.

                             – Jubair Ali Tabish


  In Hindi  
मैं क्या बताऊं वो कितना करीब है मेरे 
मेरा ख्याल भी उसको सुनाई देता है 
वो जिसने आंख अता की है देखने के लिए 
वो जिसने आंख अता की है देखने के लिए
उसी को छोड़कर सब कुछ दिखाई देता है।

खाली बैठे हो तो एक काम मेरा कर दो ना, 
मुझको अच्छा सा कोई जख्म़ अता कर दो ना
ध्यान से पंछियों को देते हो दाना पानी, 
इतने अच्छे हो तो पिंजरे से रिहा कर दो ना। 
जब करीब आ ही गए हो तो उदासी कैसी? 
जब दीया दे ही रहे हो तो जलाकर, दो ना।

इसी खुशी ने मेरा दम निकाल रखा है 
कि उसने अब भी मेरा गम संभाल रखा है 
मैं खाक ही तो हूं आखिर, मेरा बनेगा क्या? 
मुझे कुम्हार ने चक्कर में डाल रखा है
और मेरे खिलाफ मिले हैं कई सबूत मगर 
मेरे वकील ने जज को संभाल रखा है।

सितम ढाहते हुए, सोचा करोगे? 
हमारे साथ तुम ऐसा करोगे
अंगूठी तो मुझे लौटा रहे हो 
अंगूठी के निशाँ का क्या करोगे? 
मैं तुमसे अब झगड़ता भी नहीं हूं 
तो क्या इस बात पर झगड़ा करोगे?
वो दुल्हन बनके रुखसत हो गई है
कहां तक कार का पीछा करोगे? 


भीड़ तो ऊंचा ही सुनेगी दोस्त 
मेरी आवाज गिर पड़ेगी दोस्त 
मेरी तकदीर तेरी खिड़की है
मेरी तकदीर कब खुलेगी दोस्त? 
और गांव मेरा बहुत ही छोटा है
तेरी गाड़ी नहीं रुकेगी दोस्त
दोस्ती लफ़्ज़ ही में दो है दो 
सिर्फ तेरी नहीं चलेगी दोस्त।

वो क्या है कि फूलों को धोखा हुआ था 
तेरा सूट तितली ने पहना हुआ था 
मुझे क्या पता बाढ़ में कौन डूबा 
मैं कश्ती बनाने में डूबा हुआ था। 
मैं शायद उसी हाथ में रह गया हूं 
वही हाथ जो मुझसे छूटा हुआ था 
किसी की जगह पर खड़ा हो गया मैं 
मेरी सीट पर कोई बैठा हुआ था 
पुरानी ग़ज़ल डस्टबिन में पड़ी थी 
नया शेर टेबल पर रखा हुआ था 
तुम्हें देख कर कुछ तो भुला हुआ हूं 
अरे याद आया ! मैं रूठा हुआ था। 

अपने बच्चों से बहुत डरता हूं मैं 
बिल्कुल अपने बाप के जैसा हूं मैं 
जिन को आसानी से मिल जाता हूं मैं 
वो समझते हैं बहुत सस्ता हूं मैं 
जा नदी से पूछ शैराबी मेरी 
किस घड़े ने कह दिया प्यासा हूं मैं ?
मेरी ख्वाहिश है कि दरवाजे खुले 
वरना खिड़की से भी आ सकता हूं मैं 
दूसरे बस तोड़ सकते हैं मुझे 
सिर्फ अपनी चाबी से खुलता हूं मैं।

                             – जुबेर अली ताबिश