Sher-o-Shayari (Part 4) | Pardeep Kumar

Sher-O-Shayari written and performed by Pardeep Kumar on The social house's Plateform.


शब्दार्थ
वतन परस्ती देशभक्ति।
बेगैरतनिर्लज्ज, बेहया, बेशर्म।
बेतरतीबक्रमरहित, अव्यवस्थित, बेढंग।
करीनातरतीब, क्रम, तरीक़ा, ढंग, तर्ज़, कायदा, सलीका, सिलसिला, मेल, समानता।
मुक़द्दसपरम पवित्र, पूज्य।

Sher-o-Shayari 

अपने दर्द का ना तुमको
मैं पता जरा दूंगा
अपने दर्द का ना तुमको
मैं पता जरा दूंगा, तुम पूछलोगें हाल
और मैं मुस्कुरा दूंगा

मुझसे ना पूछो जन्मदिन पर तोहफे की हसरतें 
मैं नादान हूँ की गुजरा हुआ साल मांग लूँगा 
खा गए सारी किताबे 
ये कागजी कीड़े 
हैरान हूं ये क्यों तेरी चिट्ठी नहीं खाते? 
वतन परस्ती इनके खून में होगी भी तो कैसे 
ये वही लोग हैं जो बचपन में मिट्टी नहीं खाते
दे रही अंजाम नफरतो को बंदूके आज कल 
बचपन की तरह रूठकर अब कट्टी नहीं खाते

पांव के छालों का 
इलज़ाम भी इन सड़कों पर 
जिसने था दौड़ाया हमें वो बच के निकल जाएं
माँ बाप की किस्मत में ना थी इतनी ठोकरें 
वो खाते हैं इसलिए की औलाद संभल जाएं

गांव के हर मंजर को नजर भर के देखा उसने 
वो शख्स जो जा रहा था शहर कमाने के लिए  
यूं ही नहीं चल रही ये हवाएं बेसबक, 
गांव की मिट्टी चली है शहर किसी को बुलवाने के लिए 

मैं अपनी मौत के मंजर को भी जीना चाहता हूँ
कफन अपना अपने हाथ से ही सीना चाहता हूँ
बड़ी फुर्सत में काटी है जिंदगी 
कि कुछ काम करू 
मैं मरते वक्त माथे पर पसीना चाहता हूँ  
बड़ी बेगैरत हैं बेतरतीब चली जाती है 
मैं तेरी यादों का भी एक करीना चाहता हूँ 
उसकी आँखों की शराब तो पी लेंगे और भी
मैं तो मुकद्दस उन आँखों का अश्क पीना चाहता हूँ 

                                         – प्रदीप कुमार

Apne dard ka na tumko
Main pata zara dunga
Apne dard ka na tumko
Main pata zara dunga, 
Tum puchh loge haal
Aur main muskura dunga

Mujhse naa puchho janmdin par tohfe ki hasartein 
Main naadan hoon ki gujra hua saal maang lunga 

Kha gaye saari kitabe 
Ye kaagzi kide 
Hairaan hoon ye kyon teri chitthi nahin khaate? 
Watan parasti inke khoon mein hogi bhi to kaise 
Ye wahi log hain jo bachpan mein mitti nahin khaate
De rahi anzaam nafarto ko bandooke aaj kal 
Bachpan ki tarah ruthkar ab katti nahin khaate

Paanv ke chhalon ka 
Iljaam bhi in sadkon par 
Jisne tha daudaya hamein wo bach ke nikal jayein
Maa baap ki kismat mein naa thi itni thokrein 
Wo khaate hain isliye ki aulaad sambhal jayein

Ganv ke har manjar ko nazar bhar ke dekha usne 
Wo shakhs jo ja raha tha shahar kamaane ke liye 
Yun hi nahin chal rahi ye hawayein besabak, 
Gaanv ki mitti chali hai shahar kisi ko bulwaane ke liye

Main apni maut ke manjar ko bhi jeena chahta hoon
Kafan apna apne haath se hi seena chahta hoon
Badi fursat mein kaati hai zindagi 
Ki kuch kaam karu 
Main marte waqt maathe par pasina chahta hoon  
Badi begairat hain betartib chali jaati hai 
Main teri yaadon ka bhi ek kareena chahta hoon 
Uski aankhon ki sharab to pi lenge aur bhi
Main to mukaddas un aankhon ka ashq peena chahtaa hoon 

                                      – Pardeep Kumar