Jhooth Se, Sach Se, Jisse Bhi Yaari Rakhein | Rahat Indori



Jhooth Se, Sach Se, Jisse Bhi Yaari Rakhein

झूठ से, सच से, जिससे भी यारी रखें 
आप तो अपनी तक़रीर जारी रखें 

बात मन की कहें या वतन की कहें 
झूठ बोलें तो आवाज़ भारी रखें 

इन दिनों आप मालिक हैं बाजार के 
जो भी चाहें वो कीमत हमारी रखें 

आपके पास चोरों की फेहरिस्त है 
सब पे दस्त-ए-कर्म बारी बारी रखें 

सैर के वास्ते और भी मुल्क़ हैं 
रोज़ तैयार अपनी सवारी रखें 

वो मुकम्मल भी हो ये ज़रूरी नहीं
योजनाएं मगर ढ़ेर सारी रखें। 

                                           – राहत इंदौरी

Jhooth se, sach se, jisse bhi yaari rakhein 
Aap to apni taqreer jaari rakhein 

Baat mann ki kahein ya watan ki kahein 
Jhooth bolein to awaaz bhaari rakhein

In dino aap malik hain bazar ke 
Jo bhi chahein wo keemat hamari rakhein 

Aapke paas choron ki fehrist hai 
Sab pe dast-e-karam baari baari rakhein 

Sair ke vaaste aur bhi mulq hain 
Roz taiyyar apni sawaari rakhein 

Wo mukammal bhi ho ye zaroori nahin
Yojnaayein magar dher saari rakhein

                                           – Rahat Indori