जड़ें | केदारनाथ सिंह


'जड़ें' कविता केदारनाथ सिंह जी द्वारा लिखी गई एक हिन्दी कविता है।

'उत्तर कबीर और अन्य कविताएँ' नामक कविता-संग्रह में‌‌ संकलित यह हिन्दी कविता 'जड़े‌' भी है।

जड़ें

जड़ें चमक रही हैं
ढेले खुश
घास को पता है
चींटियों के प्रजनन का समय
करीब आ रहा है

दिन भर की तपिश के बाद
ताजा पिसा हुआ गरम-गरम आटा
एक बूढ़े आदमी के कंधे पर बैठकर
लौट रहा है घर

मटमैलापन अब भी
जूझ रहा है
कि पृथ्वी के विनाश की खबरों के खिलाफ
अपने होने की सारी ताकत के साथ
सटा रहे पृथ्वी से।

                                       – केदारनाथ सिंह

Jadein chamak rahi hain
Thele khush
Ghaas ko pata hai
Chintiyon ke prajanan ka samay
Karib aa raha hai

Din bhar ki tapish ke baad
Taza pisa hua garam-garam aata
Ek budhe aadmi ke kandhe par baithakar
Laut raha hai ghar

Matmailapan ab bhi
Joojh raha hai
Ki prithvi ke vinash ki khabron ke Khilaaf
Apne hone ki saari taakat ke saath
Sata rahe priathvi se.

                                      – Kedarnath Singh