Baith Pass Mere, Ek Kahani Likh Du | Shirish Umang

Baith pass mere written and performed by Shirish umang on The Social House's Plateform

Baith Pass Mere, Ek Kahani Likh Du

कि  तेरे चेहरे की ये मासूमियत लाजवाब है 
मुझे इश्क तुमसे बेहिसाब है 
मुझे पढ़ने लिखने का तो वैसे कोई शौक नहीं 
मुझे पढ़ने लिखने का तो वैसे कोई शौक नहीं 
लेकिन जिसे बिन पढ़े रहा न जाए तू वो किताब हैं
लोग अपनी महबूबा के सपने अक्सर रात में ही क्यों देखते हैं 
जिसे मैं खुली आँखों से देखता हूँ तू वो ख्वाब है तेरे चेहरे की ये मासूमियत लाजवाब है 
मुझे इश्क तुमसे बेहिसाब है 
चेहरा तेरा हुस्न-ए-चमन और मैं ये जवानी लिख दूं 
तू बैठ मेरे पास और मैं एक कहानी लिख दूं
लिख दूं मैं तेरी सारी खुशियाँ इन सफेद पन्नों पर
जो गम तुझे गर आए तो तेरी आँख का पानी लिख दूं 

तेरी चाहतों का चलन तुझ पर भारी है 
तेरी इस चाल को गज मस्तानी लिख दूं 
नसीब से तेरी मोहब्बत मुझपे अता हुई है 
इसे और कुछ नहीं बस खुदा की मेहरबानी लिख दूं 

डबडबाए नैनो में तेरा अक्श आया है 
इन पलकों को चंचल दीवानी लिख दूं 
एक तरफा अहसास है लहरों के उमंग का
इसे कोई ताकत रुहानी लिख दूं 
चेहरा तेरा हुस्न-ए-चमन और मैं ये जवानी लिख दूं 
तू बैठ मेरे पास और मैं एक कहानी लिख दूं

जैसे रेत में लहलहाती फसल हो जाती है 
तुझे देखता हूँ तो ग़ज़ल हो जाती है 
तुझे याद करना कोई कल्पना तो नहीं
तेरे बिन जिन्दगी सजल हो जाती हैं 

उन्होंने अपने दिल से मेरे दिल को बेदर कर दिया
मेरे बच्चों ने मुझको मेरे ही घर से बेघर कर दिया जिसकों पाला, पोसा, पढ़ाया, लिखाया 
उसी ने मेरे सीने में खंजर कर दिया 
जिसका बिस्तर मखमल का बनाया था हमने
उसी ने मेरी जमीन को बंजर कर दिया 

                                                    – शिरिष उमंग


Ki tere chehre ki ye maasumiyat lajwaab hai 
Mujhe ishq tumse behisaab hai 
Mujhe padhne likhne ka to waise koi shauq nahin 
Mujhe padhne likhne ka to waise koi shauq nahin 
Lekin jise bin padhe raha na jaye tu wo kitaab hain
Log apni mahbooba ke sapne aksar raat mein hi kyon dekhte hain 
Jise main khuli aankhon se dekhta hoon tu vo khwab hai
Tere chehre ki ye maasumiyat lajwaab hai 
Mujhe ishq tumse behisaab hai 
Chehra tera husn-e-chaman aur main ye jawani likh doon 
Tu baith mere paas aur main ek kahani likh doon
Likh doon main teri saari khushiyaan in safed pannon par
Jo gam tujhe gar aaye to teri aankh ka paani likh doon 

Teri chaahton ka chalan tujh par bhaari hai 
Teri is chaal ko gaz-mastaani likh doon Nasib se teri mohabbat mujhpe ata huyi hai 
Ise aur kuch nahin bas khuda ki meharbaani likh doon 

Dabdabaaye naino mein tera aksh aaya hai
In palkon ko chanchal diwani likh doon 
ek tarfa ehsaas hai lahron ke umang ka
Ise koi taakat ruhani likh doon 
Chehra tera husn-e-chaman aur main ye jawani likh doon 
Tu baith mere paas aur main ek kahani likh dun

Jaise ret mein lahlahaati fasal ho jaati hai 
Tujhe dekhta hun to ghajal ho jaati hai 
Tujhe yaad karna koi kalpna to nahin
Tere bin zindagi sajal ho jaati hain 

Unhonne apne dil se mere dil ko bedar kar diya
Mere bachchon ne mujhko mere hi ghar se beghar kar diya
 Jiskon paala, posa, pdhaaya, likhaaya
Usi ne mere sine mein khanjar kar diya 
Jiska bistar makhmal ka banaaya tha humne
Usi ne meri Zameen ko banjar kar diya 

                                         – Shirish Umang