Mere Hujre Me Nahi Aur Kahi Par Rakh Do | Rahat Indori

'Mere Hujre Me Nahi Aur Kahi Par Rakh Do' written and performed by Rahat Indori. This poetry is best Ghazal and Shayari of Rahat Indori.

Mere Hujre Me Nahi Aur Kahi Par Rakh Do

मेरे हुजरे में नहीं और कही पर रख दो 
आसमान लाये हो ले आओ ज़मीन पर रख दो

मैंने जिस ताक में कुछ टूटे दीए रखे हैं 
चाँद तारों को भी ले जाके वही पर रख दो 

अब कहाँ ढूंढने जाओगे हमारे कातिल 
आप तो क़त्ल का इल्ज़ाम हमी पर रख दो

हो वो जमुना का किनारा ये कोई शर्त नहीं 
मिटटी मिटटी ही में रखनी है कही पर रख दो 

                                               – राहत इंदौरी

Mere hujre me nahi aur kahi par rakh do 
Aasmaan laaye ho le aao zameen par rakh do 

Maine jis taaq me kuch toote deeye rakhe hain 
Chaand taaron ko bhi le jaake wahi par rakh do 

Ab kahan dhoondhne jaoge hamaare kaatil 
Aap to qatl ka ilzaam hami par rakh do 

Ho wo jamuna ka kinaara ye koi shart nahi 
Mitti mitti hi me rakhni hai kahi par rakh do 

                                           – Rahat Indori