Mere Dil Se Mere Dil Ka Haal | Jyoti Sharma

Mere Dil Se Mere Dil Ka Haal Poetry written and performed by Jyoti Sharma on  The Social House's Platform.

Mere Dil Se Mere Dil Ka Haal

एक खाली कमरा और कुछ पन्ने 
मेरे दिल से मेरे दिल का हाल पुछते है
कि बता दू उन्हें भी कुछ खालीपन की 
एहसास पुछते है
ये रोने नहीं देते मुझे 
जो पाना चाहती हूँ उसकी आस पूछते हैं 
और जो खो चुका है उसे भूलाने की राह ढूंढते हैं
एक खाली कमरा और कुछ पन्ने 
मेरे दिल से मेरे दिल का हाल पुछते है
कलम भी कमाल करती है 
जो जुबान ना बता पाए 
उन्हें चंद लम्हों में बयान करती है 
पन्नों की ज़मीं पे ज़िन्दगी का बखान करती हैं 
तन्हाई से रूबरू हो जाऊं मैं 
बस यही मेरे साथ करती है
साहब..! अब कलम है, पन्नों के साथ मिल के 
मेरे दिल से मेरे दिल का हाल पुछती है

लोगों से अब दूर रहती हूँ 
सब कहते है की आजकल मैं 
अपने में मशरूफ रहती हूँ 
जो भीड़ में खो गया था और 
औरो को मनाने में रो गया था 
हाँ.. उस दिल के करीब रहती हूँ 
वो जो कहता है बहुत करीब से सहती हूं 
साहब... हां मैं एक खाली कमरा और कुछ पन्नो से घिरी रहती हूँ 
क्योंकि वही है जो मेरे दिल से मेरे दिल का हाल पूछते हैं।

इश्क़ वो नदी है जो शुरू तो कहीं से भी हो जाती है 
और अगर हद से ज्यादा हो जाए 
तो समुन्दर सा खारा वो पानी 
समुन्दर की लहरे पांव की जमीन तक खींच ले जाती है 
मगर खुद को खुद संभालने की सीख दे जाती है।

मुझे नहीं पता आज कल की मोहब्बत क्या है?
मुझे नहीं पता आज कल की मोहब्बत क्या है?
भरी महफिल में जिसपे नजरे रूके
यारो नजरे करार वहां हैं।

                                             – ज्योति शर्मा

 Ek khaali kamra aur kuch panne 
Mere dil se mere dil ka haal puchhte hai
Ki bata du unhen bhi kuch khalipan ki 
Ehsaas puchhte hai
Ye rone nahin dete mujhe 
Jo pana chaahti hoon uski aas puchhte hain 
Aur jo kho chuka hai use bhulane ki raah dhundhte hain
Ek khaali kamra aur kuch panne
 Mere dil se mere dil ka haal puchhte hai
Kalam bhi kamal karti hai 
Jo jubaan na bata paye 
Unhen chand lamhon mein bayaan karti hai 
Pannon ki zameen pe zindagi ka bakhan karti hain 
Tanhaai se rubru ho jaaun main 
Bas yahi mere saath karti hai
Sahab..! ab kalam hai, pannon ke saath mil ke 
Mere dil se mere dil ka haal puchhti hai

Logon se ab dur rahti hoon 
Sab kahte hai ki aajkal main 
Apne mein mashroof rahti hoon 
Jo bhid mein kho gaya tha aur 
Auro ko manane mein ro gaya tha 
Haan.. us dil ke karib rahti hoon 
Wo jo kahta hai bahut karib se sahti hoon 
Sahab... haan main ek khaali kamra aur kuch panno se ghiri rahti hoon 
Kyonki wahi hai jo mere dil se mere dil ka haal puchhte hain.

Ishq vo nadi hai jo shuru to kahin se bhi ho jaati hai 
Aur agar had se jyada ho jaye 
To samundar sa khaara vo paani 
Samundar ki lahre paanv ki zameen tak khinch le jaati hai 
Magar khud ko khud sambhaalne ki sikh de jaati hai.

Mujhe nahin pata aajkal ki mohabbat kya hai? 
Mujhe nahin pata aajkal ki mohabbat kya hai? 
Bhari mahfil mein jispe najre ruke
Yaaro najre karaar wahan hain.

                                            – Jyoti Sharma