Kya Tum Laut Aaoge | Kavita Patil

Kya tum laut aaoge poem written and performed by Kavita Patil on the social house's Plateform.

Kya Tum Laut Aaoge?

जुदा होके भी दिल अक्सर याद करता है उसे
सोचता है क्या वो भी मुझे याद करता होगा 
जैसे आसमां रो पड़ता है जमीन की याद में
बारिश की बूंदें भेजता है फ़रियाद में 
खैर बारिश की बूंदें तो नहीं है मेरे पास 
पर इस आँसुओं में तुम, तुम्हें पाओगे 
सुनो कभी देखोगे मेरे ये आँसु तो 
क्या तुम लौट आओगें?
  
याद आते हैं वो फलक में,
तुने जो किए थे झूठे वादे
मैने देखे थे जो सच्चे सपने याद आते है 
याद आता है मुझे मेरे हारे हुए प्यार का इजहार
सुन के भी अनसुनी की थी जो तुने 
मेरे दिल की वो बाते हज़ार 
याद आते है... 
पर आज भी मेरी टूटी हुई नींद के बिखरे हुए सपनो में तुम, तुम्हे पाओगे  
सुनो ना कभी देखोगे मेरा ये दर्द तो 
क्या तुम लौट आओगें?  

अक्सर आंखें मूंद लेती हूं
सोचती हुं बंद आँखों में ही सही 
कुछ हसीन पल बिता लूँ तुम्हारे साथ 
पर ये कमबख्त आंसु आंखों में समा ही ना पाये
जब आंखें खोल दीं मैंने उन अश्कों को रिहा करने
उन अश्कों में भी तेरी तस्वीर को बनते देखा मैंने
मानों बरबाद सी हो गई हूँ तेरे जाने के बाद 
अब इन यादों में, 
खुदा से की गई उन सौ सौगातों में 
तुम, तुम्हे पाओगे  
सुनो कभी देखोगे मेरा ये प्यार तो 
क्या तुम लौट आओगे?

हाँ मैं जानती हूँ मैं तो वो पन्ना हूं तेरी जिंदगी की किताब का 
कि तू एक दफा पलट कर देखना तक ना चाहे 
पर क्या तुम जानते हो हमने तो कुछ इस तरह लिखा है तुम्हे अपनी जिंदगी की किताब पर 
कि आज अरसों बाद भी हम, हमारा लिखा मिटा ना पाए 
अब कोशिश भी नहीं है उन यादों को मिटाने की
 हाँ अब कोशिश भी नहीं है उन यादों को मिटाने की 
कि अब मेरी यादों में मेरी सुन के भी अनसुनी किए गए 
उन सौ जज्बातों में तुम, तुम्हे पाओगे 
सुनो ना कभी सुनोगे मेरी ये कविताएं तो
क्या तुम लौट आओगे?? 

                                      – कविता पाटिल


Juda hoke bhi dil aksar yaad karta hai use
Sochta hai kya wo bhi mujhe yaad karta hoga 
Jaise aasmaan ro pdta hai zameen ki yaad mein
Baarish ki boondein bhejta hai fariyaad mein 
Khair baarish ki boondein to nahin hai mere paas 
Par is aansuon mein tum, tumhein paaoge 
Suno kabhi dekhoge mere ye aansu to 
kya tum laut aaoge?
  
Yaad aate hain wo phalak mein,
Tune jo kiye the jhuthe vaade
Maine dekhe the jo sachhe sapne yaad aate hai 
Yaad aata hai mujhe mere haare hua pyaar ka ijahaar
Sun ke bhi ansuni ki thi jo tune 
Mere dil ki vo baate hazaar 
yaad aate hai... 
Par aaj bhi meri tooti hui nind ke
 Bikhre hue sapno mein tum, tumhe paaoge  
Suno na kabhi dekhoge mera ye dard to 
Kya tum laut aaogen?  

Aksar aankhen mund leti hoon
Sochti hun band aankhon mein hi sahi 
Kuch haseen pal bita loon tumhaare saath 
Par ye kambakht aansu aankhon mein sama hi na paaye
Jab aankhen khol din maine un ashkon ko riha karne
un ashkon mein bhi teri tasvir ko bante dekha maine
Maanon barbad si ho gayi hoon tere jaane ke baad 
Ab in yaadon mein, 
Khuda se ki gayi un sau saugaaton mein 
Tum, tumhe paaoge  
Suno kabhi dekhoge mera ye pyaar to 
Kya tum laut aaoge?

Haan main jaanti hun main to wo panna hoon teri zindagi ki kitaab ka 
Ki tu ek dafa palat kar dekhna tak na chaahe 
Par kya tum jaante ho humne to kuch 
Is tarah likha hai tumhe apni zindagi ki kitaab par 
Ki aaj arson baad bhi hum, humara likha mita na paye
Ab koshish bhi nahin hai un yaadon ko mitane ki
 Haan ab koshish bhi nahin hai un yaadon ko mitane ki 
Ki ab meri yaadon mein meri sun ke bhi anasuni kiye gaye 
un sau jajbaaton mein 
Tum, tumhe paaoge 
suno na kabhi sunoge meri ye kavitayein to
Kya tum laut aaoge?? 


                                                – Kavita Patil