Kahan Tak Aankh Royegi Kahan Tak Kiska Gham Hoga' written by Waseem Barelvi. This poetry is best Ghazal and Shayari of Waseem Barelvi.


Kahan Tak Aankh Royegi....

कहाँ तक आँख रोएगी कहाँ तक किसका ग़म होगा
मेरे जैसा यहाँ कोई न कोई रोज़ कम होगा

तुझे पाने की कोशिश में कुछ इतना रो चुका हूँ मैं
कि तू मिल भी अगर जाये तो अब मिलने का ग़म होगा

समन्दर की ग़लतफ़हमी से कोई पूछ तो लेता,
ज़मीं का हौसला क्या ऐसे तूफ़ानों से कम होगा

मोहब्बत नापने का कोई पैमाना नहीं होता,
कहीं तू बढ़ भी सकता है, कहीं तू मुझ से कम होगा

                                          – वसीम बरेलवी

Kahan tak aankh royegi kahan tak kiska gham hoga 
Mere jaisa yahan koi na koi roz kam hoga 

Tujhe paane ki koshish mein kuch itnaa ro chuka hoon main 
Ki tu mil bhi agar jaaye to ab milne ka gham hoga 

Samandar ki galatfahmi se koi puchh to leta,
Zameen ka hausla kya aise toofanon se kam hoga 

Mohabbat naapne ka koi paimana nahin hota,
Kahin tu badh bhi sakta hai, kahin tu mujh se kam hoga

                                      – Waseem Barelvi