Aapko Dekh Kar Dekhta Rah Gaya' written by Waseem Barelvi. This poetry is best Ghazal and Shayari of Waseem Barelvi.

Aapko Dekh Kar Dekhta Rah Gaya

आपको देख कर देखता रह गया
क्या कहूँ और कहने को क्या रह गया

आते-आते मेरा नाम-सा रह गया 
उस के होंठों पे कुछ काँपता रह गया

वो मेरे सामने ही गया और मैं 
रास्ते की तरह देखता रह गया

झूठ वाले कहीं से कहीं बढ़ गये 
और मैं था कि सच बोलता रह गया

आँधियों के इरादे तो अच्छे न थे 
ये दिया कैसे जलता हुआ रह गया

उस को काँधों पे ले जा रहे हैं 'वसीम'
और वो जीने का हक़ माँगता रह गया। 

                                           – वसीम बरेलवी

Aapko dekh kar dekhta reh gaya
Kya kahoon aur kahne ko kya reh gaya

Aate-aate mera naam-sa reh gaya
Uss ke honthon pe kuch kaapta reh gaya 

Wo mere saamne hi gaya aur main 
Raaste ki tarah dekhta reh gaya

Jhuth waale kahin se kahin badh gaye  
Aur main tha ki sach bolta reh gaya

Aandhiyon ke iraade to achhe na the
Ye diya kaise jalta hua reh gaya.

Usko kaandhon pe le ja rahe hai 'Waseem'
Aur wo jeene ka haq mangta reh gaya.

                                 – Waseem Barelvi