A Letter To My Younger Self - Poem| Shweta Tripathi | UnErase Poetry

A Letter To My Younger Self Hindi Poem Vocals by Shweta Tripathi ft. Biswa and written by Majaal at UnErase Poetry

About This Poem:-
Hindi poem ' A Letter To My Younger Self' in the vocal of 'Shweta Tripathi'. Poem written by 'Majaal'. This Poem is about the personal life of 'Dr Shreya' in Amazon Prime Video show 'Laakho Mein Ek' Season 2. Shweta Tripathi as a role of 'Dr. Shreya' recites a letter to her younger self at an open mic and shares her personal life struggles. Poem perform at 'UnErase Poetry'.

In Vocals - Shweta Tripathi
Cast - Shweta Tripathi, Biswa Kalyan Rath, Bappadittya Sarkar
Directed & Scripted by - Ramneek Singh
Poem Written by - Majaal
Shot at - The Cuckoo Club, Bandra
Poetry Source - UnErase Poetry

A Letter To My Younger Self


ये एक चिट्ठी है जो कि मैंने १३ साल की श्रेया को लिखी है। वो १३ साल की श्रेया जिसको लगता है कि बारहवीं में बायो में अच्छे मार्क्स आने से वो एक डॉक्टर बन सकती हैं और ये कविता मैंने एक ऐसी जगह से लिखी है जहां मैं hope करती हूँ कि आप में से कोई कभी ना जाए! 

श्रेया!.... तुमसे कभी मिल तो ना सकूंगी मैं
पर ये जरिया मिला है तुमसे बात करने का
कि तुमसे कह सकूं वो सारे नुकीले सच
मिलेगा वक़्त बहुत घावों को भरने का
पर ये जरिया मिला है तुमसे बात करने का
तुम अभी तो हो एक सरफिरी teenager तितली
 तुम्हें तो पत्तियाँ भी फुल नजर आती है
तुम्हारी हर मांग बिना माँगे होती है पूरी
तू एक महीनें तक बर्थडे मनाती है
वो चमकते बक्सों में पड़े बंद तौहफे
तुम्हें दुआओं से महंगे नजर आएँगे
ना कदर होगी उन सीधी साधी सब्जियों की
जिन्हें सब जोरजबरदस्ती से खिलाएंगे
रहेंगी ना कोई कसर तुम्हारी परवरिश में
ना कोई सोच में आकर ज़हर मिलाएगा
गिलास में है आज दूध कल शराब होंगी
पर कोई सच का कड़वा घूंट ना पीलाएगां
अरे अनजान हो तुम अपनी खुशनसीबी से
जो तुम्हें एग्जाम्स के बुरे सपने आते हैं
उड़ेगी नींद जब मायूस आँखों से तुम्हारी
लगेगा अनगिनत चीखों से भरी रातें है
आने वाले दिनों में पहला प्यार होगा
तुम्हे लगेगा ये दिल उसी की अमानत है
ये हनीमून सा वहम जब मिटेगा एक दिन
तो तुम समझोगी तुमको बस उसकी आदत है
और जिस दिन तुम्हें प्यार की जरूरत होगी
भीड़ में भी अकेला पाओगी खुद को
इन्हीं वसूलो पे जमकर थूकेगी दुनिया
तुम अपनी आँखों से ही गिराओगी खुद को
खाई थी कसम मैने शख्त इरादो की
कि इसी सिस्टम में ही कुछ तो कर गुजरना है पर इसकी दलदलों में रीढ़ सबकी गल गई है
कुछ जीयेंगे बस, बाकी सबको सड़ना हैं।
श्रेया!.... तुमसे कभी मिल तो ना सकूंगी मैं
पर ये जरिया मिला है तुमसे बात करने का

                                                   – Written by
                                                     मजाल

Ye ek chitthi hai jo ki maine 13 saal ki shreya ko likhi hai. Wo 13 saal ki shreya jisko lagta hai ki baarahwi mein bio mein achhe marks aane se wo ek doctor ban sakti hain aur ye kavita maine ek aisi jagah se likhi hai. Jahan main hope karti hun ki aap mein se koi kabhi na jaye!


Shreya! .... Tumse kabhi mil to naa sakungi main
Par ye jariya mila hai tumse baat karne ka
Ki tumse kah sakun wo saare nukeele sach 
Milega waqt bahut ghavon ko bharne ka
Par ye jariya mila hai tumse baat karne ka
Tum abhi to ho ek sarfiri teenager titli
Tumhen to pattiyaan bhi phool nazar aati hai
Tumhari har maang bina mange hoti hai puri
Tu ek mahinen tak birthday manati hai
Wo chamakte bakson mein pade band tauhfe
Tumhen duaaon se mahange nazar ayenge
Na kadar hogi un sidhi sadhi sabjiyon ki
Jinhen sab jorjabardasti se khilayenge
Rahengi naa koi kasar tumhari paravarish mein
Naa koi soch mein aakar zahar milayega
Gilas mein hai aaj doodh, kal sharab hongi
Par koi sach ka kadva ghunt naa pilayegan
Are anjaan ho tum apni khushnasibi se
Jo tumhen exams ke bure sapne aate hain
Udegi nind jab mayoos aankhon se tumhari
Lagega anginat chikhon se bhari raatein hai
Aane waale dinon mein pahla pyaar hoga
Tumhe lagega ye dil usi ki amanat hai
Ye honeymoon sa vaham jab mitega ek din
To tum samjhogi tumko bas uski aadat hai
Aur jis din tumhen pyaar ki jarurat hogi
Bhid mein bhi akela paaogi khud ko Inhi vasoolo pe jamkar thukegi duniya
Tum apni aankhon se hi giraogi khud ko
Khaai thi kasam maine shakht iraado ki
Ki isi system mein hi kuch to kar gujarna hai
Par iski daldalon mein reed sabki gal gayi hai
Kuch jiyenge bas, baaki sabko sadna hain.
Shreya! .... Tumse kabhi mil to naa sakungi main
Par ye jariya mila hai tumse baat karne ka.

                                                 – Written by
                                                         Majaal