Zindagi Ko Zakham Ki Lazzat Se Mat Mehroom Kar | Rahat Indori


'Zindagi Ko Zakham Ki Lazzat Se Mat Mehroom Kar' By Rahat Indori Ghazal and Shayari


शब्दार्थ:
लज़्ज़त - ज़ायका, स्वाद।
मंजूम - छंदोबद्ध, नज्म की सूरत में लाया हुआ, छंद के रूप में परिवर्तित किया हुआ।
बर्छियों - एक प्रकार का नुकीला अस्त्र, भाला।


Zindagi Ko Zakham Ki Lazzat...

ज़िंदगी को जख्म की लज़्ज़त से मत महरूम कर
रास्ते के पत्थरों से खैरियत मालूम कर

टूट कर बिखरी हुई तलवार के टुकड़े समेट
और अपने हार जाने का सबब मालूम कर

जागती आँखों के ख़्वाबों को ग़ज़ल का नाम दे
रात भर की करवटों का जाइका मंजूम कर

शाम तक लौट आऊँगा हाथों का खाली-पन लिए
आज फिर निकला हूँ मैं घर से हथेली चूम कर

मत सिखा लहज़े को अपनी बर्छियों के पैतरें
ज़िंदा रहना है तो लहज़े को जरा मासूम कर

                                                         – राहत इंदौरी


Zindagi ko zakham ki lazzat se mat mehroom kar
Raste ke patharon se khairiyat maloom kar

Toot kar bikhari hui talwaar ke tukde samet
Aur apne haar jaane ka sabab maloom kar

Jagati aankhon ke khwaabon ko ghazal ka naam de
Raat bhar ki karwaton ka jaaika manjoom kar

Shaam tak laut aayunga haathon ka khaali-pan liye
Aaj phir nikala hoon main ghar se hatheli choom kar

Mat sikha lahaze ko apni barchhiyon ke paitre
Zinda rahna hai to lahze ko zara masoom kar

                                                         – Rahat Indori