सर्वेश्वरदयाल सक्सेना की कविता 'तुम्हारे साथ रहकर'

तुम्हारे साथ रहकर, सर्वेश्वरदयाल सक्सेना, हिन्दी कविता, रचनाएं

'तुम्हारे साथ रहकर'

तुम्हारे साथ रहकर
अक्सर मुझे ऐसा महसूस हुआ है
कि दिशाएँ पास आ गयी हैं,
हर रास्ता छोटा हो गया है,
दुनिया सिमटकर
एक आँगन-सी बन गयी है
जो खचाखच भरा है,
कहीं भी एकान्त नहीं
न बाहर, न भीतर।

हर चीज़ का आकार घट गया है,
पेड़ इतने छोटे हो गये हैं
कि मैं उनके शीश पर हाथ रख
आशीष दे सकता हूँ,
आकाश छाती से टकराता है,
मैं जब चाहूँ बादलों में मुँह छिपा सकता हूँ।

तुम्हारे साथ रहकर
अक्सर मुझे महसूस हुआ है
कि हर बात का एक मतलब होता है,
यहाँ तक कि घास के हिलने का भी,
हवा का खिड़की से आने का,
और धूप का दीवार पर
चढ़कर चले जाने का।

तुम्हारे साथ रहकर
अक्सर मुझे लगा है
कि हम असमर्थताओं से नहीं
सम्भावनाओं से घिरे हैं,
हर दिवार में द्वार बन सकता है
और हर द्वार से पूरा का पूरा
पहाड़ गुज़र सकता है।

शक्ति अगर सीमित है
तो हर चीज़ अशक्त भी है,
भुजाएँ अगर छोटी हैं,
तो सागर भी सिमटा हुआ है,
सामर्थ्य केवल इच्छा का दूसरा नाम है,
जीवन और मृत्यु के बीच जो भूमि है
वह नियति की नहीं मेरी है।

                                       – सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

Tumhare saath rahkar
Aksar mujhe aisa mahsoos hua hai
Ki dishayein paas aa gayi hain,
Har raasta chhota ho gaya hai,
Duniya simatkar
Ek aangan-si ban gayi hai
Jo khachakhach bhara hai,
kahin bhi ekant nahin
na baahar, na bhitar.

Har chiz ka aakar ghat gaya hai,
Ped itne chhote ho gaye hain
Ki main unke shish par haath rakh
Aashish de sakta hun,
Aakash chhaati se takrata hai,
Main jab chaahun baadlon mein munh chhipa sakta hun.

Tumhare saath rahkar
Aksar mujhe mahsoos hua hai
Ki har baat ka ek matalab hota hai,
Yahaan tak ki ghaas ke hilne ka bhi,
Hawa ka khidki se aane ka,
Aur dhoop ka deewar par
Chadhkar chale jaane ka.

Tumhare saath rahkar
Aksar mujhe laga hai
Ki hum asamarthtaaon se nahin
Sambhawanaaon se ghire hain,
Har deewar mein dwaar ban sakta hai
Aur har dvaar se puraa kaa puraa
Pahaad gujar saktaa hai.

Shakti agar simit hai
To har chiz ashakt bhi hai,
Bhujayein agar chhoti hain,
To saagar bhi simta hua hai,
Saamarthy keval ikchha ka dusra naam hai,
Jeevan aur mriatyu ke bich jo bhumi hai
Vah niyati ki nahin meri hai.

                  – Sarveshvar Dayal Saxena