Sehar Me Dhoondh Raha Hoon Ki Sahara De De | Rahat Indori

Sehar Me Dhoondh Raha Hoon Ki Sahara De De' written and performed by Rahat Indori. This poetry is best Ghazal and Shayari of Rahat Indori.


शब्द अर्थ
सगँज़नी बिस्तर।
कासाकटोरा।
हातिम अत्यंत दानी और परोपकारी व्यक्ति।


Sehar Me Dhoondh Raha Hoon Ki Sahara De De

शहर में ढूंढ रहा हूँ कि सहारा दे दे
कोई हातिम जो मेरे हाथ में कासा दे दे

पेड़ सब नंगें फ़क़ीरों की तरह सहमे हैं
किस से उम्मीद ये की जाये कि साया दे दे

वक़्त की सगँज़नी नोच गई सारे नक़श
अब वो आईना कहाँ जो मेरा चेहरा दे दे

दुश्मनों की भी कोई बात तो सच हो जाये
आ मेरे दोस्त किसी दिन मुझे धोखा दे दे

मैं बहुत जल्द ही घर लौट के आ जाऊँगा
मेरी तन्हाई यहाँ कुछ दिनों पेहरा दे दे

डूब जाना ही मुक़द्दर है तो बेहतर वरना
तूने पतवार जो छीनी है तो तिनका दे दे

जिस ने क़तरों का भी मोहताज किया मुझ को
वो अगर जोश में आ जाये तो दरिया दे दे

तुम को “राहत” की तबीयत का नहीं अन्दाज़ा
वो भिखारी है मगर माँगो तो दुनिया दे दे

                                                      – राहत इंदौरी

Sehar me dhoondh raha hoon ki sahara de de
Koi haatim jo mere haath me kasa de de

Ped sab nange faqiron ki tarah sahme hain
Kis se ummeed ye ki jaaye ki saya de de

Waqt ki sangjani noch gayi saare naksh
Ab wo aaina kahan jo mera chehara de de

Dushmano ki bhi koi baat to sach ho jaaye
Aa mere dost kisi din mujhe dhoka de de

Main bahut jald hi ghar laut ke aa jaaunga
Meri tanhaai yahan kuch dino pehara de de

Doob jaana hi muqddar hai to behatar warna
Toone patwaar jo chhini hai to tinka de de

Jis ne katron ko bhi mohtaaz kiya mujhko
Wo josh me agar aa jaaye to dariya de de

Tum ko Rahat ki tabiyat ka nahi andaaza
Wo bhikari hai magar maango to duniya de de

                                              – Rahat Indori