Sari Basti Kadmon Me Hai, Ye Bhi Ik Fankari Hai | Rahat Indori

Sari Basti Kadmon Me Hai, Ye Bhi Ik Fankari Hai' written and performed by Rahat Indori. This poetry is best Ghazal and Shayari of Rahat Indori.



शब्द अर्थ
रहजन डाकू,लुटेरा।
रहबर राह दिखाने वाला, मार्गदर्शक।
फ़नकारी कलाकारी।
हिकमत अच्छी और बढ़िया तरकीब, उत्तम युक्ति।
गेसू जुल्फ।
ग़ीबत चुग़ली।


Sari Basti Kadmon Me Hai, Ye Bhi Ik Fankari Hai

सारी बस्ती क़दमों में है, ये भी इक फ़नकारी है
वरना बदन को छोड़ के अपना जो कुछ है सरकारी है

कालेज के सब लड़के चुप हैं काग़ज़ की इक नाव लिये
चारों तरफ़ दरिया की सूरत फैली हुई बेकारी है

फूलों की ख़ुश्बू लूटी है, तितली के पर नोचे हैं
ये रहजन का काम नहीं है, रहबर की मक़्क़ारी है

हमने दो सौ साल से घर में तोते पाल के रखे हैं
मीर तक़ी के शेर सुनाना कौन बड़ी फ़नकारी है

अब फिरते हैं हम रिश्तों के रंग-बिरंगे ज़ख्म लिये
सबसे हँस कर मिलना-जुलना बहुत बड़ी बीमारी है

दौलत बाज़ू हिकमत गेसू शोहरत माथा गीबत होंठ
इस औरत से बच कर रहना, ये औरत बाज़ारी है

कश्ती पर आँच आ जाये तो हाथ कलम करवा देना
लाओ मुझे पतवारें दे दो, मेरी ज़िम्मेदारी है

                                                  – राहत इंदौरी

Sari basti kadmon me hai, ye bhi ik fankari hai
Warna badan chhod ke apna jo kuch hai sarkari hai

Kaalez ke sab ladke chup hai kaagaz ki ik naav liye
Chaaron taraf dariya ki soorat faili hui bekari hai

Phoolon ki khusboo looti hai, titli ke par noche hain
Ye rahzan ka kaam nahi hai, rahbar ki makkari hai

Humne do sau saal se ghar me tote paal ke rakhe hain
Meer taqi ke sher sunana kaun badi fankari hai

Ab firte hain hum rishton ke rang birange zakham liye
Sabse hans kar milna julna bahut badi bimari hai

Daulat baazoo hikmat gesoo shoharat maatha geebat honth
Is aurat se bach kar rehna, ye aurat baazari hai

Kashti par aanch aa jaye to haath kalam karwa dena
Laao mujhe patwaaren de do, meri zimmedaari hai

                                            – Rahat Indori