Sar Par Bojh Andhiyaaron Ka Hai Maula Khair | Rahat Indori


Sar Par Bojh Andhiyaaron Ka Hai Maula Khair written and performed by Rahat Indori. This poetry is best  Ghazal and Shayari of Rahat Indori.


Sar Par Bojh Andhiyaaron Ka....


सर पर बोझ अँधियारों का है मौला खैर
और सफ़र कोहसारों का है मौला खैर

दुश्मन से तो टक्कर ली है सौ-सौ बार
सामना अबके यारों का है मौला खैर

इस दुनिया में तेरे बाद मेरे सर पर
साया रिश्तेदारों का है मौला खैर

दुनिया से बाहर भी निकलकर देख चुके
सब कुछ दुनियादारों का है मौला खैर

और क़यामत मेरे चराग़ों पर टूटी
झगड़ा चाँद-सितारों का है मौला खैर….

                                                 – राहत इन्दौरी

Sar par bojh andhiyaaron ka hai maula khair
Aur safar kohasaaron ka hai maula khair

Dushman se to takkar li hai sau-sau baar
Saamna abke yaaron ka hai maula khair

Is duniya mein tere baad mere sar par
Saaya ristedaaron ka hai maula khair

Duniya se baahar bhi nikalkar dekh chuke
Sab kuchh duniyadaaron ka hai maula khair

Aur kyaamat mere chraagon par tooti
Jhagda chaand-sitaaron ka hai maula khair…..

                                            – Rahat Indori